देवघर

« Back to Glossary Index
  • उपनाम – लाइटनिंग सेफ सिटी , हरितकीवाना , मंदिरो का शहर
  • देवघर  (Deoghar ) स्थापना – 1 जून, 1981 [अन्य – 1 जून, 1983 (संथाल परगना से अलग कर )]
  • मुख्यालय  – देवघर 
  • प्रमंडल – संथाल परगना प्रमण्डल
  • अनुमंडल – 2, ब्लॉक– 10  
  • देवघर अनुमंडल के 5 ब्लॉक – देवघर, मोहनपुर, सारवां, देवीपुर, सानारायठाडी
  •  मधुपुर अनुमंडल के 5 ब्लॉक – मधुपुर, सारठ, पालोजोरी, मारगो मुंडा, करों
  • विधानसभा क्षेत्र – 3  [देवघर , मधुपुर , सारठ ]
  • लोक सभा क्षेत्र – 2  [गोड्डा , दुमका ]
  • शहरी निकाय – देवघर नगर निगम , मधुपुर नगर परिषद् 
  • प्रमुख नदी – अजय, पथरो , जयंती, मयूराक्षी, ब्राह्मणी
    • मयूराक्षी का उद्गम त्रिकूट पहाड़ी से 
  • प्रमुख जलप्रपात/झील /गर्मजलकुण्ड 
    • बकुलिया जलप्रपात
  • शैक्षणिक संस्थान
    • हिन्दी विद्यापीठ
  • वन्य जीव अभ्यारण
    •  
  • प्रमुख मंदिर   –  “©www.sarkarilibrary.in”
    • वैद्यनाथ मंदिर – निर्माणकर्ता पूरणमल 
    • युगल मंदिर 
    • नौलखा मंदिर
    • तपोवन मंदिर 
    • लीला मंदिर
    • कुण्डेश्वरी मंदिर 
    • पगला बाबा मंदिर
    • हरला जोड़ी मंदिर
    • पथरोल मंदिर
    • सत्संग नगर
    • कर्णोस्वर मंदिर
    • कर्णेश्वर धाम
    • रिखिया धाम
    • जामा शिवधाम
    • फागो धाम
    • गोसुवा धाम
    • धर्मराज धाम
    • लालगढ़ मजार
    • सारठ मजार
    • पनाहकोला मजार
  • प्रमुख किले    
  • अन्य प्रमुख पर्यटन स्थल  –
    • त्रिकुट पहाड़ी
    • नंदन पहाड़
    • बुद्धा पहाड़
    • टीको पहाड़
    • बूढ़ई पहाड़
    • तपोवन
    • बकुलिया प्रपात
    • करौं गाँव
  • उद्योग
    • डॉबर दवा कंपनी (जसीडीह)
    • हैदराबाद इण्डस्ट्रीज
  • प्रमुख व्यक्ति
    • सखाराम गणेश देउस्कर
    • बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री विनोदानंद झा का संबंध इसी जिले से है
  • बॉर्डर   “©www.sarkarilibrary.in” 

  देवघर का जनांकिकीय विशेषता (जनगणना 2011 के अनुसार  )

 “©www.sarkarilibrary.in”

  • क्षेत्रफल  –  2,477 वर्ग किमी
  • जनसंख्या – 14,92,073
  • जनसंख्या घनत्व602
  • दशकीय जनसंख्या वृद्धि दर –  28.03%
  • लिंगानुपात – 925
  • साक्षरता दर – 64.85%

 अन्य तथ्य 

  • 1201 में बख्तियार खिलजी ने देवघर को अपनी राजधानी बनाया था
  • झारखंड में 1857 की क्रांति की शुरुआत देवघर के रोहिणी गांव से 12 जून 1857 में शुरू हुई थी
  • मधुपुर टाउन हॉल का उद्घाटन महात्मा गांधी ने किया था

त्रिकुट पहाड़ी, देवघर

  • देवघर से लगभग 16 किमी दूर दुमका रोड़ पर है। 
  • इस पहाड़ी पर 840 फीट की ऊँचाई पर रोपवे बना हुआ है। 
  • रावण ,माता सीता का हरण करके जाते समय इस पर्वत पर रूका था । 
  • इसे ‘रावण का हेलिपैड’ कहा जाता है।

करौं गाँव

  • करौं अशोककालीन गाँव है । 
  • इस गाँव को अशोक के पुत्र राजा महेन्द्र ने बौद्ध विहार के रूप में बसाया था। 
  • इस गाँव का नाम महाभारतकालीन कर्ण के नाम पर किया गया था, बाद में इसका नाम करौं हो गया। 
  • यहाँ कर्ण द्वारा स्थापित कर्णोस्वर मंदिर भी है।
  •  इस गाँव के अंतिम राजा काली प्रसाद सिंह थे, जो झरिया स्टेट के भी राजा थे।

सत्संग नगर

  • 1946 में बांग्लादेश के पवना से आकर श्रीश्री ठाकुर अनुकूलचंद्र जी ने देवघर में सत्संग आश्रम की स्थापना की थी।