Ram Narayan Singh Biography खोरठा लेखक राम नारायण सिंह की जीवनी

 

Biography of Khortha writer Ram Narayan Singh

KHORTHA FOR JSSC

खोरठा लेखकों की जीवनी

राम नारायण सिंह की जीवनी

खोरठा साहित्य की अन्य विद्याएँ

KFNgCOhHlqo0LKwWMi iC7 OqfrPVywXJoPvLoUbaCgOvHf 5ZnTlXFTR5uuANhX k66xJsqUXplU4G9zvHLQQZZ5

राम नारायण सिंह

उपनाम -छोटानागपुर का शेर /छोटानागपुरेक केसरी 

जीवनी – जयवीर साहू 

Book – दु डायर जिरहुल फूल

जन्म 

18 दिसंबर 1885 जिला- चतरा(पुराना हजारीबाग)

 गांव-  तेतरिया,हंटरगंज

पिता का नाम

भोला सिंह (किसान ,फारसी भाषा के विद्वान )

मातृभाषा 

खोरठा 

पत्नि का नाम 

अझोला देवी (विवाह -1907 )-मृत्यु (1936 )

1940-42 – दूसरा विवाह(विधवा ) 

शिक्षा 

  • लोअर प्रायमरी स्कूल (छोटकी जोरी हजारीबाग)

  • जोरी मीडील  वर्नाक्यूलर स्कूल, 1902-मीडील परीक्षा पास 

  • 1911 में संत जेवियर कॉलेज से आइए परीक्षा पास

  • 1913 ईस्वी में रिपन कॉलेज से b.a. पास

  • यूनिवर्सिटी कॉलेज से कानून की पढ़ाई

    • 1919 से वकालत शुरू किया

नौकरी

  • 2 वर्ष तक असिस्टेंट सेटलमेंट ऑफिसर का नौकरी किया

  • उप समाहर्ता (एसडीएम) के पद पर कार्यरत राम नारायण बापू महात्मा गांधी से प्रभावित होकर 1921 में असहयोग आंदोलन में शामिल हो गए 

    • 2 वर्ष तक 1921 में कारावास का सजा हुआ

सम्मान 

  • चतरा कांग्रेस कमेटी के सचिव एवं सभापति बने

  • 1924 ईस्वी में हजारीबाग जिला बोर्ड के पहले वाइस चेयरमैन बने, फिर जिला मजिस्ट्रेट व स्थाई चेयरमैन बने

  • 1921 से 1940 तक कांग्रेस समिति के सदस्य रहे 

  • 1927 ईस्वी में पहली बार छोटानागपुर की ओर से इंडियन लेजिसलेटिव असेंबली के सदस्य बने और कांग्रेस पार्टी की ओर से केंद्रीय विधान सभा के सदस्य चुने गए

  • सांसद 

  • आजादी के आंदोलन में रामगढ़, हजारीबाग क्षेत्र में नेतृत्व 

  • 1940 में रामगढ़ तथा भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस अधिवेशन का आयोजन उन्हीं के अगुवाई में

  • राम नारायण सिंह के नाती प्रो प्रमोद कुमार हिंदी दैनिक रांची एक्सप्रेस से 26 जून 1983 के अंक में उनके जीवन पर एक लेख लिखा

  • 1963 तक राम नारायण सिंह दिल्ली में रहकर योग आश्रम के मुखिया के रूप में सेवा करते रहें

  • विधवा से विवाह करने के बाद नारी शिक्षा में इनका ध्यान केंद्रित हुआ और इसके लिए उन्होंने स्कूल कॉलेज भी खोला 

    • हंटरगंज हाईस्कूल और चतरा कॉलेज की बुनियाद इन्होंने ही रखा

  • रविंद्र नाथ टैगोर ने तुलना किया जाता है

मृत्यु 

24 जून  1964 (चतरा अस्पताल ),दुर्घटना से (23 जून )

  • चतरा कॉलेज जाने के दौरान रांची के समीप बालूमठ में दुर्घटना

For JPSC JSSC CGL EXCISE CONSTABLE JHARKHAND SI JTET

Leave a Reply