माहली जनजाति झारखण्ड की जनजातियाँ JPSC/JSSC/JHARKHAND GK/JHARKHAND CURRENT AFFAIRS SARKARI LIBRARY

JPSC/JSSC/JHARKHAND GK/JHARKHAND CURRENT AFFAIRS SARKARI LIBRARY

झारखण्ड की जनजातियाँ।। माहली जनजाति

माहली जनजाति

  • इस जनजाति का संबंध द्रविड़ परिवार से है।
  • इस जनजाति का झारखण्ड में संकेन्द्रण मुख्यतः सिंहभूम क्षेत्र, राँची, गुमला, सिमडेगा, लोहरदगा, हजारीबाग, बोकारो, धनबादसंथाल परगना क्षेत्र में है।
  • इस जनजाति की नातेदारी व्यवस्था हिन्दू समाज के समान है।
  • इस जनजाति की सामाजिक व्यवस्था पितृसत्तात्मक है।
  • इस जनजाति में कुल 16 गोत्र पाये जाते हैं।
  • ice screenshot 20210511 223006

  • रिजले द्वारा माहली जनजाति को निम्न पांच उपजातियों में विभक्त किया गया है:
  • इनका विवाह टोटमवादी वंशों में होता है।
  • माहली जनजाति में बाल विवाह प्रचलित है।
  • इस जनजाति में वधु मूल्य को पोन टका तथा जातीय पंचायत को परगनैत कहा जाता है।
  • इनके प्रमुख त्योहार सूरजी देवी पूजा, मनसा पूजा, टुसू पर्व, दीवाली आदि हैं।
  • यह एक शिल्पी जनजाति है जो बांस कला में पारंगत है।
  • यह जनजाति बांस की टोकरी व ढोल बनाने में पारंगत है।
  • इस जनजाति को सरल कारीगर/शिल्पकार के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।
  • इनकी मुख्य देवी सूरजी देवी है।
  • बड़ पहाड़ी तथा मनसा देवी इनके अन्य देवता हैं।
  • इस जनजाति के लोग पुरखों की पूजा गोड़म साकी (बूढ़ा-बूढ़ी पर्व) के रूप में करते हैं
  • सिल्ली क्षेत्र में इस जनजाति द्वारा की जाने वाली विशेष पूजा को ‘उलूर पूजा‘ कहा जाता है।

JPSC/JSSC/JHARKHAND GK/JHARKHAND CURRENT AFFAIRS SARKARI LIBRARY