भूमिज जनजाति झारखण्ड की जनजातियाँ JPSC/JSSC/JHARKHAND GK/JHARKHAND CURRENT AFFAIRS JHARKHAND LIBRARY

JPSC/JSSC/JHARKHAND GK/JHARKHAND CURRENT AFFAIRS JHARKHAND LIBRARY

झारखण्ड की जनजातियाँ।। भूमिज जनजाति

भूमिज जनजाति

  • झारखण्ड के हजारीबाग, राँची व धनबाद जिलों में इनका सर्वाधिक संकेन्द्रण पाया जाता है।
  • इस जनजाति की प्रजाति प्रोटो ऑस्ट्रेलायड है।
  • इनको ‘धनबाद के सरदार‘ के नाम से भी जाना जाता है।
  • घने जंगलों में रहने के कारण मुगल काल में भूमिज को चुहाड़ उपनाम से जाना जाता था।
  • इनकी भाषा मुण्डारी (ऑस्ट्रो-एशियाटिक) है तथा इनकी भाषा पर बांग्ला व सदानी भाषा का प्रभाव है।
  • इस जनजाति का समाज पितृसत्तात्मक होता है।
  • इस जनजाति में कुल चार गोत्र (पत्ती, जेयोला, गुल्गु, हेम्ब्रोम) पाए जाते हैं। 
  • इस जनजाति में सगोत्रीय विवाह निषिद्ध होता है।
  • ice screenshot 20210511 223902

  • इस जनजाति में सर्वाधिक प्रचलित विवाह आयोजित विवाह है।
  • इसके अतिरिक्त इनमें अपहरण विवाह, गोलट विवाह, सेवा विवाह, राजी-खुशी विवाह आदि भी प्रचलित हैं।
  • इस जनजाति में तलाक की प्रथा पायी जाती है तथा पति द्वारा पत्ते को फाड़कर टुकड़े करने पर तलाक हो जाता है।
  • इस जनजाति की जातीय पंचायत का मुखिया प्रधान कहलाता है।
  • इनके प्रमुख त्योहार धुला पूजा, चैत पूजा, काली पूजा, गोराई ठाकुर पूजा, ग्राम ठाकुर पूजा, करम पूजा आदि हैं।
  • इस जनजाति का प्रमुख पेशा कृषि कार्य है।
  • यह जनजाति अच्छी काश्तकार है। 
  • इनके सर्वोच्च देवता ग्राम ठाकुर और गोराई ठाकुर हैं।
  • इनके धार्मिक प्रधान को लाया कहा जाता है।
  • इस जनजाति में श्राद्ध संस्कारों को ‘कमावत‘ कहा जाता है।

JPSC/JSSC/JHARKHAND GK/JHARKHAND CURRENT AFFAIRS JHARKHAND LIBRARY