जयपाल सिंह मुण्डा (JAIPAL SINGH MUNDA)

  • Post author:
  • Post category:Blog
  • Reading time:11 mins read

जयपाल सिंह मुण्डा (JAIPAL SINGH MUNDA)

  • जयपाल सिंह मुण्डा का जन्म –  3 जनवरी, 1903 ,  टकरा गाँव (खूंटी ) ,  मुण्डा परिवार में 
  • जयपाल सिंह मुण्डा का मूल नाम –  वेनन्ह पाह था।
    • इसाई धर्म अपनाने पर इनका नाम ईश्वर दास हुआ
    • खूटी के पुरोहित द्वारा इनका नामकरण जयपाल सिंह किया गया। 
    • उपनाम –  मुण्डा राजा,  मरंङ गोमके,  
  • जयपाल सिंह मुण्डा की पत्नी का नाम –  तारा मजुमदार
    • कांग्रेस के प्रथम अध्यक्ष व्योमेश चंद्र बनर्जी की पुत्री थी। 
  • जयपाल सिंह मुण्डा की दूसरा  पत्नी –  जहाँआरा
    • ब्रिटिश फौज के कर्नल रोनाल्ड कार्टिश की पत्नी थी। 
    • जयपाल सिंह की पत्नी जहाँआरा इंदिरा गाँधी की मंत्रिपरिषद् में परिवहन एवं विमानन विभाग की उपमंत्री थीं। 
  • सेंट पाल हाई स्कूल के हेडमास्टर केनन कोसग्रेव ने उन्हें उच्च शिक्षा ग्रहण करने हेतु इंग्लैंड भेज दिया।
  • जयपाल सिंह के नेतृत्व में भारत ने पहला ओलंपिक स्वर्ण पदक पुरूष हॉकी में प्राप्त किया। 
    •  1928 , एम्सटर्डम (नीदरलैंड) ओलंपिक ,  भारतीय हॉकी टीम ने
  • 1939 में आदिवासी महासभा के गठन में सहयोग प्रदान किया।
  • 1950 में जयपाल सिंह मुण्डा ने झारखण्ड पार्टी का गठन किया।
    • झारखण्ड पार्टी के पहले अध्यक्ष – जयपाल सिंह मुण्डा
    • झारखण्ड पार्टी का कांग्रेस में विलय – 20 जून, 1963 ई
    • बिहार के मुख्यमंत्री विनोदानंद झा की पहल पर
    • सामुदायिक विकास मंत्री – जयपाल सिंह मुण्डा(मंत्री के पद से एक माह बाद इस्तीफा)
  • जयपाल सिंह मुण्डा कांग्रेस से इस्तीफा – 30 मई, 1969 
  • पृथक झारखण्ड की मांग करने वाले वे पहले नेता थे। 
  •  मृत्यु– 20 मार्च, 1970, (Brain Haemorrhage) से, नई दिल्ली में 

 

झारखण्ड पार्टी (1950 ई.) 

  • 31 दिसंबर से 1 जनवरी, 1950 को जमशेदपुर में जयपाल सिंह मुण्डा  द्वारा आदिवासी महासभा का नाम बदल कर झारखण्ड पार्टी कर दिया गया। 
  • 2 जुलाई, 1951 को छोटानागपुर-संथाल परगना प्रांत के गठन की मांग को  झारखण्ड के दौरे पर आए जयप्रकाश नारायण ने समर्थन किया। 
  • 2 जनवरी, 1952 को पृथक झारखण्ड राज्य के गठन को राँची के मोरहाबादी मैदान में आयोजित सभा में पंडित जवाहर लाल नेहरू ने विरोध किया था। 

बिहार विधानसभा चुनाव में झारखण्ड पार्टी

1952 

  • चुनाव चिह्न ‘मुर्गा’
  • 33 सीटें प्राप्त
  • मुख्य विपक्षी दल
  • बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता – सुशील कुमार बागे

1957

  • 32  सीटें प्राप्त
  • विपक्षी दल का दर्जा
  • बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता – सुशील कुमार बागे

1962 

  • 20 सीटप्राप्त
  • राज्य पुनर्गठन आयोग का आगमन 5 फरवरी, 1955 को राँची । 
  • 1957 के चुनाव में बॉम्बे  के पारसी मीनू मसानी ने राँची से चुनाव जीता था  

राज्य पुनर्गठन आयोग ,1955

  • 16 जिलों को मिलाकर झारखण्ड राज्य के गठन का प्रस्ताव

(बिहार-7, उड़ीसा-4, बंगाल-3 मध्य प्रदेश-2)

  • बिहार विधानसभा में सीताराम जगतराम द्वारा पहली बार पृथक झारखण्ड राज्य के गठन हेतु एक प्रस्ताव 10 फरवरी, 1961 को प्रस्तुत किया गया। परन्तु यह प्रस्ताव निरस्त हो गया।