श्रुतिसम भिन्नार्थक शब्द की परिभाषा, श्रुतिसम भिन्नार्थक शब्द एवं अर्थ

  • Post author:
  • Post category:Blog
  • Reading time:15 mins read

श्रुतिसम भिन्नार्थक

 

श्रुतिसम भिन्नार्थक शब्द की परिभाषा 

  • ऐसे शब्द जिनका उच्चारण प्रायः समान होता है, परन्तु अर्थ अलग-अलग होते हैं श्रुतिसम भिन्नार्थक शब्द कहलाते हैं। 

1. श्रुतिसम भिन्नार्थक शब्द अन्तर-अनन्तर ” का अंतर स्पष्ट करें?

(क) इरी-निकटता 

(ख) मतभेद-मतैक्य

(ग) भिन्नता-बाद में 

(घ) अन्दर-ईष्या

 

वर्णक्रमानुसार श्रुतिसम भिन्नार्थक शब्द एवं अर्थ

                       

  • अक्ष – धुरी , अक्षि – आँख 
  • अणु – कण , अनु – पीछे, एक उपसर्ग 
  • अंस – कन्धा , अंश – हिस्सा 
  • अनिल – हवा ,अनल – आग 
  • अन्त – समाप्ति, अन्त्य – अन्तिम 
  • अविराम – लगातार, निरन्तर ,अभिराम – सुन्दर 
  • अँगना – आँगन ,अंगना – स्त्री 
  • अपेक्षा – इच्छा, तुलना, आवश्यकता ,उपेक्षा – निरादर 
  • अम्बुज – कमल,अम्बुधि – सागर 
  • अन्न – अनाज,अन्य – दूसरा 
  • अवलम्ब – सहारा 
  • असन – भोजन  ,आसन – बैठने की वस्तु
  • संकर – अलंकार , शंकर – महादेव
  • सर्व सव  , शर्व – शिव
  • सँकरी पतली  , संकरी – दोगली
  • सीता जानकी  , सिता – चीनी
  • सर – तालाब  ,शर – तीर
  • सखी – सहेली , सखी –दानी
  • सुकर – आसानी से होने वाला , शूकर – सूअर
  • सॅवार – सजाना , संवार – आच्छादन
  • सीसा – एक धातु , शीशी – काँच
  • शूर – वीर , सुर – लय
  • सप्त – सात ,शप्त – शाप
  • सेव – बेसन का एक पकवान , सेब – एक फल
  • समान – तरह , सामान – सामग्री
  • सॉप – जंतु , साप – शाप का अपभ्रंश
  • सर्ग – अध्याय, स्वर्ग – तीसरा लोक
  • स्याम – एशिया का देश

 

निम्नलिखित शब्दों का अंतर स्पष्ट करें? 

1. अन्तर-अनन्तर

(क) इरी-निकटता 

(ख) मतभेद-मतैक्य

(ग) भिन्नता-बाद में 

(घ) अन्दर-ईष्या 

2. गृह-ग्रह

(क) घर-रक्षत्र 

(ख) घड़ियाल-तारागण

(ग) निवास-कक्षा 

(घ) मगरमच्छ-नक्षत्र 

3. कुल-कूल

(क) वंश-किनारा 

(ख) पूरा और ठंडा

(ग) जोड़ और ठंडा 

(घ) ठंडा-योग 

4. आभास- अभ्यास

(क) अनुभव-ध्यान 

(ख) छाया-भ्रम

(ग) भ्रम-आदत 

(घ) आदत-भ्रम 

5. अमूल – अमूल्य

(क) बिनामूल का – अतुलनीय 

(ख) बेजड़- अनमोल 

(ग) बहूमूल्य-बेजड़ 

(घ) अनमोल-अतुलनीय 

6.उभय-अभय 

(क) निर्भय-अभय 

(ख) निर्भय-दोनों 

(ग) दोनों-निर्भय

(घ) बिनाभय का – निर्भय 

7. छत्र – क्षत्र

(क) छाता-क्षत्रिय 

(ख) राजा-सेनापति

(ग) मुकुट-छाता 

(घ) छत-कक्षा 

8. कुच-कूच

(क) उरोज-सेना 

(ख) सेना-स्तन

(ग) स्तन-कली 

(घ) उरोज-प्रस्थान 

9. प्रतिकूल-प्रतिकूला

(क) विपरीत-सपत्नीक 

(ख) प्रतियोगी-वियोगी

(ग) समान-असमान 

(घ) विरोधी – विरोधा 

10. नियत- नीयत

(क) भाग्य-आदर 

(ख) निश्चित-इरादा 

(ग) इरादा-निश्चित 

(घ) आदर-आदत