Ankhik Geet Srinivas Panuri FOR JSSC JPSC

खोरठा भाषा एवं साहित्य

SARKARI LIBRARY

MANANJAY MAHATO

SPECIAL FOR JSSC  / JPSC

 Ankhik Geet   Srinivas Panuri FOR JSSC JPSC

ऑखीक गीत श्रीनिवास पानुरी

(ख)ऑखीक गीत

(कविता संग्रह- 72 कविता )

आंखिक गीत का अर्थ – आँखों के गीत 

  • कवि/लेखक  – श्री निवास पानुरी 

    • जन्म – 25.12.1920

    • मृत्यु – 07.10.1986

    • जन्म स्थान – बरवा अड्डा, धनबाद

    • पिता का नाम – शालीग्राम पानुरी 

    • माता का नाम – दुखनी देवी 

    • घर का पुकारू नाम – चिनिवास 

  • आँखिक गीत का प्रकाशक – नारायण महतो 

  • प्रकाशन वर्ष  – 2011 

    •  ‘आंखिक गीत’ कविता संकलन में मुक्त कविताएं तथा क्षपिकाएं संकलित हैं।

  • कुल कविता – 72 

पृथ्वी प्रकाशन में दिया हुआ है 

प्रथम संस्करण 

2000

द्वितीय संस्करण 

2019

1.आइझ गीतेक देशे 

OPEN

2.हमर हाथेक माला 

OPEN

3.एखनु पुरवेक गाले लाली 

OPEN

4.घुइर घुइर  ककरा देखे आइख 

OPEN

5. मीठा फागुन हवाक वासे

OPEN

6.रुपेक आंगी जरल प्राण

OPEN

7.तोर इयाद माते 

OPEN

8.सखी आईस तोर आशे 

OPEN

9.हम सुनलहि शून्येक डाक 

OPEN

10.करिया काजरेक घर से 

OPEN

11.आइझ हमर  वीणाक तारे 

OPEN

12.जखन हमरा सिद्धि मिलल 

OPEN

13.बाजे ककर नूपुर धवनिनी 

OPEN

14.हम देखल  ही सत्य के 

OPEN

15.भभला गाचे आम फरल 

OPEN

16.आईस खोरठाक प्राण प्रतिष्ठा 

OPEN

17.हम देखल ही सब साला के 

OPEN

18.आइझ हमर मने जागे 

OPEN

19.कोन सुंदरेक पूजे तोय 

OPEN

20.बहुत दिनेक बाद भेल 

OPEN

21.गीते गीते गीत जागल 

OPEN

22.रखिया भाय मुहेक पानी 

OPEN

23.मरुक देशे मनेक पाँखि 

OPEN

24.सुइन ककर कंठेक  गान 

OPEN

25.एके तो करेला 

OPEN

26.सखी तोर रुपेक शोर 

OPEN

27.काने फूल 

OPEN

28.काँखे पानी 

OPEN

29.बाहरे रोद 

OPEN

30.तोर एसन धन के 

OPEN

31.चमकल ककर गालेक लाली 

OPEN

32.आइझ हमर मने परल 

OPEN

33.खोरठा हाय खोरठा 

OPEN

34.जाग जाग 

OPEN

35.एखनु हमर  काने नूपुर 

OPEN

36.दुनियाक विचित्र खेल 

OPEN

37.इ जगते तोर ठोर नाय 

OPEN

38.आयझों  तोर दर्शन खातिर 

OPEN

39.इ कुकुर गिला से होशियार रहिया भाय 

OPEN

40.आइझ आपण के सभ्य कहे हे मानुस 

OPEN

41.सभ्य  कंही की असभ्य तोरा 

OPEN

42.जय जय जय

OPEN

423.सत्येक टांगे लागल  हे 

OPEN

44.हम रोपली धान 

OPEN

45.मानुष खोजे है आइझो आपण राश्ता 

OPEN

46.एखनु राइत बाकि हे 

OPEN

47.आइझ फुइल के डुबे हे सुरुज 

OPEN

48.आइझ आकाशो  नूतन मेघ 

OPEN

49.आइझो झारखण्डे ओहे होवे हे 

OPEN

50.जखन पण्डितेक हाथे भासाक भार 

OPEN

51.नाच बान्दर नाच रे 

OPEN

52.हम पकिया लाल रंग 

OPEN

53.हम आर उ 

OPEN

54.हमरा के भुल्ले हे कान्हा 

OPEN

55.नाच मुंडरी नाच रे 

OPEN

56.तोर आशे बांध घाटे 

OPEN

57.ईटा ईगो तपेसा 

OPEN

58.धीरे धीरे बोल सखी 

OPEN

59.सांप बइन काटे जे  

OPEN

60.बैसाख मासेक थकल पथिक 

OPEN

61.बिस सूत्री कार्यक्रम हमर मने चिंता गम 

OPEN

62.जोदी खोजा  मान 

OPEN

63.तोरा देईख के डर होवे हे मने 

OPEN

64.आइझ हमर मने परल 

OPEN

65.पुरुब डिगे सुरुज उठल 

OPEN

66.आइझ हमर काम शेष 

OPEN

67.माएक किरपे आइझ हम पूर्णा 

OPEN

68.ऐसन पहर के टेके हमर डहर 

OPEN

69.हाय हम ललकले रहली 

OPEN

70.कलि ,फुले गाछ विरिछे हँसे 

OPEN

71.विधवा 

OPEN

72.छणिका 

OPEN

छायावाद कविता की मुख्य विशेषताएँ (प्रवृत्तियाँ)

  • आत्माभिव्यक्ति (soul expression)

  • नारी-सौंदर्य और प्रेम-चित्रण

  • प्रकृति प्रेम

  • राष्ट्रीय / सांस्कृतिक जागरण

  • रहस्यवाद

  • स्वच्छन्दतावाद (Romanticism)

  • कल्पना की प्रधानता

  • दार्शनिकता