अनेकार्थी शब्द : SARKARI LIBRARY

  • Post author:
  • Post category:Blog
  • Reading time:46 mins read

 

अनेकार्थी शब्द

अनेकार्थी शब्द की परिभाषा

  •  ऐसे शब्द जिनका एक से अधिक अर्थ होता है, अनेकार्थी शब्द कहलाते हैं। 

1Q . निम्नलिखित शब्दों में से कौन सा शब्द आस्था का अर्थ नहीं है

(क) सहारा 

(ख) निष्ठा

(ग) विश्वास 

(घ) तपोवन 

वर्णक्रमानुसार अनेकार्थी शब्दों की तालिका

अ शब्दों की तालिका

शब्द             –          अर्थ 

  • अंक – गिनती के अंक, अध्याय, चिन्ह, संख्या, नाटक के अंक, भाग्य, परिच्छेद, गोद। 
  • अर्क – सूर्य, कपड़ा, आकाश, काढा, इंद्र, अकौआ। 
  • अग्र – आगे, अगला, शिखर, नोक,लक्ष्य, पहला, श्रेष्ठ, मुख्य, सिरा, अगुआ। 
  • अगम – अथाह, न जानने योग्य, दुर्बोध, दुर्गम। 
  • अध – पाप, पानी, दुख, दुष्कर्म, अपवित्र, दुष्ट। 
  • अच्छा – सुंदर, उचित, संपन्न, भला, कामचलाऊ, सकुशल। 
  • अज – बकरा, ब्रह्मा, शिव, दशरथ के पिता, माया, कामदेव, मेधराशि। 
  • अत – इसलिए, इसकी अपेक्षा, अब से। 
  • अंतर – अवसर, छिद्र, अवकाश, व्यवधान, मध्य, अवधि, आकाश। 
  • अर्थ  – व्याख्या, प्रयोजन, धन, मतलब, उद्देश्य, करण, लिए, हेतु, ऐश्वर्य । 
  • अदा – हावभाव, बयान करना, ढंग, देना। 
  • अनी – नोक, सेना। 
  • अनंत – आकाश, विष्णु, ईश्वर, शेषनाग, अंतरहित, ब्रह्म। 
  • अपवाद – प्रसंग, नियम के विरूद्ध, कलंक। 
  • अपेक्षा – आशा, इच्छा, आवश्यकता। 
  • अम्बर – कपड़ा, आकाश, कपास, 
  • अमृत – दूध, जल, अन्न, स्वर्ण, पारा। 
  • अरूण – सूर्य का सारथी, सूर्य, लालरंग। 
  • अलि – भौंरा, सखी, पंक्ति
  • अशोक – एक वृक्ष, सम्राट अशोक, शोक रहित
  • अक्ष – ज्ञान, आँख, मण्डल, चौसर का पासा. कील, आत्मा, रावण का पुत्र । 
  • अक्षर – मोख, वर्ण, शिव, विष्णु धर्म, सत्य, गगन, अविनाशी, तपस्या, जल, आदि।

  • आत्मा – परमात्मा, अग्नि, सूर्य, ब्रह्म स्वरूप। 
  • आदि – आरम्भ, वगैरह 
  • आदी – अदरख, अभ्यस्त। 
  • आपत्ति – एतरात, विपत्ति। 
  • आम – फल, सामान्य, सर्वसाधारण, मामूली। 
  • आर्य – आचार्य, कुलीन, मानसिक पीड़ा, धरोहर, अभिशाप। 
  • आराम – रोग दूर होना, बाग, विश्राम, 
  • आस्था – स्थित होने की अवस्था, विश्वास, निष्ठा।

  • इंद्र – वर्षा का देवता, श्रेष्ठ व्यक्ति, देवराज, प्रधान पुरूष। 
  • ईश्वर – आत्मा, भगवान, स्वामी, परमात्मा।

  • उत्तर – जवाब, उत्तर दिशा, बाद के अर्थ, हल।
  • उत्सर्ग –  दान, समाप्ति, त्यागना। 
  • उद्धरण – लेख का अंश, उद्धार, मुक्ति।
  • अपख्यान – कहानी, पौराणिक ।

  • ऋत – सत्य, उज्जवल। 
  • ऋजु – अनुकूल, ईमानदार, सरल, सीधा। 
  • ऋण – कर्ज, उधार, एहसान का बोझ।

  • कल – आने वाला दिन, बीता हुआ दिन, मशीन, आराम, मधुर ध्वनि, श्रेष्ठ, सुंदर, चैन, अस्फुट।
  • कर हाथ, टैक्स, करना, किरण, हाथी की सूंड।
  • कला – गुण, उपाय, एक विषय, अंश, हुनर। 
  • कनक – सोना, धतूरा, गेहूँ। 
  • कबंध – बादल, राहु, एक राक्षस, जीवित धड़। 
  • कटक – सैनिक, समूह, शिविर, एक स्थान।
  • कण – नाम, कान, कुंती का पुत्र।
  • कक्ष – बंगला, कमरा, श्रेणी, भूमि, कांख। 
  • काल – यमराज, मृत्यु, समय, अवधि, अंत, व्याकरण का अंश।
  • काम –  कार्य, पेशा, धंधा, कामदेव ।
  • कांड  – अध्याय, घटना।
  • कुशल – चतुर, सुखी, सुरक्षित, खैरियत।
  • कुल – घर, गोत्र, खानदान, समस्त, केवल, वंश, संघ। 
  • कुंजर – हाथी, चाल।
  • कट गढ़, समूह, घर, हथौड़ी, टेढ़ी चाल।
  • कृष्ण – काला, श्रीकृष्ण भगवान, नाम । 
  • केवल – ज्ञान, एकभम्र।
  • कोट – किला, पहनने का ड्रेस।
  • कोटि – करोड़, धनुष का सिरा, श्रेणी।
  • कोष – फुल का भीतरी भाग, खजाना।
  • कंज – ब्रह्मा, कमल।

ख 

  • खल – दुष्ट, नीच, चुगलखोर, निर्लज्ज, कूटने का बरतन, धतूरा । 
  • खर – गधा, तिनका, दुष्ट, एक राक्षस, तेज। 
  • खग – आकाश, पक्षी, गन्धर्व, बाण, तारा। 
  • खेती – किसानी, बोआई, काश्त, फसल |
  • गति – हालत, चाल, मोक्ष, दशा।
  • गण – मनुष्य, शिव के गण, समूह, भूतप्रेतादि, छंद का विषय। 
  • गुरू – शिक्षक, बड़ा, छंद में दो मात्राओं का वर्ग, वृहस्पत्ति, भारी श्रेष्ठ, ग्रहविशेष।
  • गुण – स्वभाव, रस्सी, धनुष की डोरी, कौशल, तीन गुण-सत, रज तम, शील।
  • गौ  – माता, गाय, दिशा, वाणी, इंद्रिय, जीभ, स्वर्ग, बाण, वज्र, पृथ्वी। 
  • ग्रहण – सूर्य एवं चंद्र ग्रहण, लेना, दोष, पकड़ा।
  • घन –  अधिक, बादल, भारी, हथौड़ा, घना। 
  • घर –  घराना, मकान, ठिकाना,
  • घट –  शरीर, कम, हृदय, घड़ा, मन ।
  • चपला – बिजली, स्त्री, लक्ष्मी, चंचला, नवयौवन।
  • चर –  जासूस, खंजन पक्षी, इत। 
  • चरण  – छंद की मात्रा, पैर। 
  • चीर – वस्त्र, रेखा।
  • चेतन – परमात्मा, आत्मा, प्राणी। 
  • चंद्र – सोना, कपूर, चंद्रमा ।
  • जलज – कमल, मछली, सेवार, मोती, चन्द्रमा, शंख
  • जलघर – बादल, समुद्र।
  • जड़ – निर्जीव, मूर्ख, मूल, अचेतनता। 
  • जीवन – प्राण, जीवित, जल, वायु, परम प्रिय।
  • जीमूत – बादल, इंद्र, पर्वत।
  • जाल – जाला, फरेब, बुनावट।
  • जटिल – जटाधारी, उलझा हुआ, पेचीदा।
  • झाई – डाया, झलक, धब्बा।
  • टीका – तिलक, भेंट, व्याख्या, इंजेक्शन सगाई।
  • ठाकुर  –  क्षत्रिय, स्वामी, ईश्वर, एक जाति।
  • तत्व – घटक, सार, वास्तविकता, ईश्वर, मूल, पंचभूत, ब्रह्म। 
  • तप – अग्नि, तपस्या, गर्मी। 
  • ताप – भाई, पिता, पूज्य, मित्र, बड़ा, प्यारा, ग्राम
  • तारा – नक्षत्र, वृहस्पति की पत्नी, बालि की पत्नी, देवी विशेष, आँख की पुतली। 
  • तार – उद्धार, टेलीग्राम, लोहे की तार। 
  • तीर – बाण, नदी का किनारा ।
  • दल – सेना, समूह, हिस्सा, पक्ष, पत्ता, चिड़ी। 
  • दक्ष – क्षत्रिय, पक्षी, चतुर, वैश्य, दाँत, बहना, चंद्र।
  • दर्शन – आकृति, दर्शन शास्त्र, देखना। 
  • दंड – सजा, डंडा, कसरत।
  • द्विज – सुमन, कुसुम, फूल, लतांत, प्रसून, मंजरी,
  • दिनेश – समीप, पात्र, कथा, सूर्य, अनुमति, आदेश, आधार। 
  • दृष्टि – देखने का ढंग, विचार, नजर ।
  • द्रव्य – धन , वस्तु 
  • धन –  योग, सम्पति।
  • धर्म – सम्प्रदाय, स्वभाव, कर्त्तव्य, प्रकृति पुण्य।
  • छात्र – शिष्य, विद्यार्थी, अंतेवासी, एक तरह की मधुमक्खी ।
  • छात्री – धन, वस्तु ,आँवला, माता, उपमाता, पृथ्वी।
  • नग – पर्वत, नगीना, वृक्ष, अदद। 
  • नव – नौ, नया। 
  • नाग – हाथी, साँप, नाग-केशर। 
  • नाक – नासिका, इज्जत, स्वर्ग। 
  • निशाचर – उल्लू, राक्षस, चोर, प्रेत ।
  • पत्र – चिट्ठी, पंख, पना। 
  • पतंग  – पक्षी, फतिंगा, गुड्डी, सूर्य, टिड्डी। 
  • पय – पानी, दूध, अमृत। 
  • पक्ष – ओर, पंख, पार्टी, सहाय, बल, पन्द्रह दिन का समय। 
  • पद – पैर, छंद, गीत, स्थान, चिन्ह, चरण, ओहदा, शब्द, कविता की पंक्तियाँ। 
  • पयोधर – बादल, स्तन गन्ना, पर्वत, यन, नारियल। 
  • पानी – जल, चमक, इज्जत, कांति, मान। 
  • पृष्ठ – पन्ना, पीछे का भाग, पीठ।
  • पूर्व – दिशा, पहले। 
  • पोत – नौका, बच्चा, लगान, वस्त्र, गुड़िया, स्वभाव। 
  • प्रभाव– महिमा,सामर्थ्य, दबाव, असर। 
  • प्रत्यय – विश्वास, ज्ञान, शब्दों के अंत में लगने वाला शब्दांश।
  • फल – पेड़ का फल, नतीजा, लाभ, भाले की नोक, सेवा, तलवार की धार। 
  • फार्म – आकृति, नक्शा, नमूना, सांचा, दर्खास्त। 
  • बल – शक्ति, सेना, बलराम, ऐंठन, बगल, टेढ़ापन 
  • बलिराजा बलि, बलिदान, उपहार, कर 
  • बारी – उद्यान, एक जाति, घर, कन्या, छोटी उम्र की, नवयुवती 
  • बाल – केश, बाला, बालक, (मकई, गेहूँ, धान) के बाल
  • भव – कुशल, जन्म, महादेव, संसार । 
  • भारत – भारत वर्ष, अर्जुन, तुमुल, युद्ध । 
  • भाग – भाग्य, हिस्सा।
  • भास्कर – सोना, शिव, सूर्य, अग्नि।
  • भुवन – जल, लोक। 
  • भूत – प्रेत, पंचभूत, प्राणी, मृतदेह, अतीत, काल।
  • मत – वोट, विचार, नहीं। 
  • मधु – शहद, शराब, वसन्तऋतु, मीठा, चैत का मास, एक दैत्य, नाम। 
  • महावीर – हनुमान, जैन तीर्थकार, बलवान। 
  • मंगलविवाह, सुभ, एक वार, एक ग्रह। 
  • मान – सम्मान, नाप-तोल, अभिमान, इज्जत, रूठना। 
  • माधव – श्रीकृष्ण, वसंतऋतु, महुआ, बैसाख। 
  • माँग – वस्तु की माँग, स्त्रियों की माँग।
  • मित्रप्रिय, दोस्त, सहयोगी, सूर्य । 
  • मुद्रा – सिक्का, मोहर, भाव । 
  • मूक – चुप, गूंगा, विवश।
  • रक्त – लाल, खून
  • रस – सार, नवरस, आनंद, स्वाद, प्रेम, जल, पारा। 
  • रश्मि  – लगाम, किरण, बाग
  • रंग – वर्ण, दशा, अभिनय-स्थल, प्रेम।
  • राग – प्रेम, संगीत-ध्वनि,
  • रास  – लगाम, विशेष प्रकार का नृत्य
  • राशि – मेश, समूह, विभिन्न राशियाँ-मेघ, कर्क आदि।
  • लक्ष्य –  निशाना, उद्देश्य
  • लाल – पुत्र, छोटी चिड़ियाँ, एक रंग, संबोधन।
  • लौटना – वापस आना, फिरना, मुकर जाना।
  • वन – जंगल, जल,
  • वर- दूल्हा, चुनना, वरदान, श्रेष्ठ
  • वर्ण – अक्षर, रंग, विभिन्न जातियाँ-(वैश्य, ब्राह्मण आदि)
  • वास  निवासस्थान, गंध।
  • वार – मारना, सप्ताहिक दिन।
  • विग्रह – लड़ाई, देह देवता की मूर्ति, व्याकरण (समास) का अंग।
  • विधि भाग्य, विधाता, ब्रह्मा, रीति, कानुन।
  • विहंगम – पक्षी, सूर्य, बाण, चंद्र।
  • विषम – भीषण, कठिन, गणित का विषय।
  • विरोध – विपरीत, वैर
  • श्यामा – राधा, यमुना, रात, कोयल।
  • शिव –  महादेव, मंगल, श्रगाल, वेद, भाग्यशाली। 
  • शुद्ध – ठीक, पक्ति, बिना मिलावटी के समान।
  • शेष – शेषनाग, बाकी
  • सर – पराजित, तालाब, सिर, बाण, चिता 
  • सारंग – बादल, कोयल, मोर, हिरण, पपीहा, हंस, कामदेव, साँप, धनुष । 
  • सथूल – मोटा, सहजपूर्वक दिखाई पड़ना या समक्ष में आना। 
  • सुधा – पानी, अमृत, दूध, पृथ्वी, पुष्परस, गंगा, अर्क।
  • स्वर- ताल, देव 
  • सूर – अंधा, सूर्य 
  • सेहत – स्वास्थ्य, सुख,
  • हरकत – चेष्टा, गति, नटखटपन
  • हंस – पक्षि, प्राण।
  • होश – चेतना, सुधबुध, स्मरण, अक्ल।
  • हर – हरना, शिव
  • हस्ती अस्तित्व, हाथी
  • हरि हाथी, कामदेव, इंद्र, सिंह, वानर,
  • हार पराजय, माला
  • हीन –  दीन, निकृष्ट, रहित।
  • क्षेत्र – तीर्थ, शरीर, खेत।
  • श्रुति  – वेद, कान।
  • श्रोत – कर्ण, हाथी की सैंड, धारा, स्रोत।

 

 

निम्नलिखित शब्दों का अर्थ नहीं है

1. आस्था

(क) सहारा 

(ख) निष्ठा

(ग) विश्वास 

(घ) तपोवन 

2. ईश्वर

(क) स्वामी 

(ख) भगवान

(ग) आत्मा 

(घ) साधु 

3. गति

(क) मोक्ष 

(ख) चाल 

(ग) दशा 

(घ) दिशा 

4. खल

(क) नीच 

(ख) दुष्ट

(ग) मोक्ष 

(घ) चुगलखोर 

5. काल

(क) समय 

(ख) मौसम

(ग) रंग 

(घ) अवधि 

6. काम

(क) वासना 

(ख) कार्य

(ग) मनोकामना 

(घ) इच्छा 

7. पानी

(क) मान 

(ख) जल 

(ग) चमक 

(घ) अज 

8. फल

(क) नतीजा 

(ख) तीर का अगला भाग 

(ग) तलवार की धार

(घ) कर्म 

9. मधु

(क) वसंत ऋतु 

(ख) शराब

(ग) मीठा 

(घ) भाव 

10. रश्मि

(क) बाग 

(ख) लगाम

(ग) किरण 

(घ) प्रकाश