झारखण्ड में विद्युत परियोजनाएँ

झारखण्ड में दो प्रकार की विद्युत परियोजनाएँ हैं 

  • ताप विद्युत परियोजना
  • जल विद्युत परियोजना

 

झारखण्ड में ताप विद्युत परियोजनाएँ 

 

ताप विद्युत परियोजना

क्षमता

जिला 

ताप विद्युत गृह

पतरातू 

840 

रामगढ़

  • रूस के सहयोग से चौथी पंचवर्षीय योजना के दौरान 1973 में स्थापित

बोकारो 

830 

बोकारो

  • कोयला आधारित प्रथम ताप विद्युत गृह 
  • दामोदर घाटी परियोजना के तहत स्थापित
  • बिजली उत्पादन प्रारंभ – 1953 में
  • बोकारो नदी पर स्थापित

चंद्रपुरा 

780 

चंद्रपुरा

बोकारो

  • स्थापना – 1965 ई. में
  • दामोदर घाटी निगम द्वारा स्थापित

तेनुघाट 

420 

तेनुघाट

बोकारो

  • स्थापना – 1990 के दशक में

झारखण्ड में जल विद्युत परियोजनाएँ 

1. तिलैया जल विद्युत केन्द्र

  • झारखण्ड की प्रथम जल विद्युत परियोजना 
  • स्थापना –  1953 ई. में दामोदर घाटी निगम द्वारा 
  • स्थितकोडरमा जिले में बराकर नदी पर 

 

मैथन जल विद्युत केन्द्र 

  • स्थापना  – दामोदर घाटी निगम के अधीन 1957 में 
  • स्थित – धनबाद जिले में बराकर नदी पर 
  • गैस टरबाइन पर आधारित झारखण्ड का एकमात्र विद्युत उत्पादन केन्द्र 
  • यह दक्षिण-पूर्व एशिया में अपनी तरह का प्रथम विद्युत केन्द्र है।

 

स्वर्णरेखा जल विद्युत परियोजना

 

 कोनार जल विद्युत केन्द्र 

  • बोकारो जिले में कोनार नदी पर स्थित है। 
  • यहाँ भूमिगत जल विद्युत केन्द्र का निर्माण किया गया है। 

अय्यर जल विद्युत केन्द्र 

पंचेत जल विद्युत केन्द्र 

  • अवस्थित – धनबाद एवं पुरुलिया (प० बंगाल) की सीमा पर 

कोयलकारो परियोजना (प्रस्तावित)

  • यह परियोजना कोयल तथा कारो नदी पर राष्ट्रीय पनबिजली निगम (NHPC) द्वारा निर्मित किया जाना है।
  • परियोजना से संबंधित जिले –  राँची, गुमला और पश्चिमी सिंहभूम 
  • परियोजना के तहत विद्युत उत्पादन का लक्ष्य – 732 मेगावाट 
    • प्रथम चरण –  710 मेगावाट का उत्पादन 
    • द्वितीय चरण – 22 मेगावाट का उत्पादन 

 

राज्य की प्रमुख जल विद्युत परियोजना

परियोजना का नाम

जिला 

नदी 

स्थापना 

उत्पादन क्षमता

1

तिलैया

कोडरमा

बराकर

1953 

60,000 किलोवाट

2

मैथन

धनबाद

बराकर

1957 

60,000 किलोवाट

3

कोनार

बोकारो 

कोनार

40,000 किलोवाट

4

पंचेत

धनबाद

दामोदर

40,000 किलोवाट

5

बाल पहाडी

गिरिडीह

बराकर

20,000 किलोवाट

6

अय्यर 

दामोदर

45,000 किलोवाट

7

स्वर्णरेखा

राची

स्वर्णरेखा

1989 

130 मेगावाट

 

राज्य की कुल विद्युत क्षमता का वर्गीकरण ( मेगावाट में)

(आर्थिक समीक्षा) 

स्वामित्व

राज्य सरकार 

केन्द्र सरकार 

निजी क्षेत्र

कुल

ताप विद्युत 

1190

314.93

900

2404.93

जल विद्युत

130

70.93

0

200.93 

नवीकरणीय ऊर्जा

4.05

0

16.19

20.24 

कुल

1324.05

(51%)

385.86

(35%)

916.19

(14%)

2626.10

 

  • झारखण्ड राज्य की कुल स्थापित विद्युत क्षमता2626 मेगावाट 
    • राज्य सरकार – 51% 
    • निजी क्षेत्र – 35%
    • केन्द्र सरकार – 14%
    • कोयला आधारित – 91%
    • जल आधारित– 08% 
    • नवीकरणीय– 01%