Hindi Pradeep Magazine, Pandit Balkrishna Bhatt

  • Post author:
  • Post category:Blog
  • Reading time:1 mins read

 

 

पत्रिका हिंदी प्रदीप, पंडित बालकृष्ण भट्ट

Hindi Pradeep Magazine, Pandit Balkrishna Bhatt

  • भारतेंदु हरिश्चंद्र के बाद हिंदी पत्रकारिता को दिशा देने में पंडित बालकृष्ण भट्ट का योगदान अतुलनीय है। 
  • पत्रिका हिंदी प्रदीप के जरिए प्रयाग में, अंग्रेजों से लोहा लेने वाले बाल कृष्ण जी ने आमजन को हिंदी से जोड़ने की मुहिम छेड़ी। 
  • हिंदी प्रदीप, हिंदी का प्रसिद्ध मासिक समाचार पत्र था ,जो 7 सितंबर 1877 को प्रथम बार प्रकाशित हुआ इसके संपादक बालकृष्ण भट्ट थे
  • बालकृष्ण भट्ट ने सदैव ही नए लेखकों को प्रोत्साहित किया। 
  • इलाहाबाद (प्रयागराज) में जन्मे भट्ट जी ने अपने जीवन काल में अनेक निबंध उपन्यास नाटक और लेख हैं – ‘भारत निबंधवली’ और ‘साहित्य सुमन’ उनके चुनिंदा निबंधों का संग्रह है ‘
  • नूतन ब्रह्मचारी ‘और ‘सौ अजान एक सुजान’ उनके प्रमुख उपन्यास है 
  • दमयंती’ ‘चंद्रसेन’ ‘रेल का टिकट’ खेल’ ‘स्वयंवर’ ‘बाल विवाह’ नाटक के अलावा भट्ट जी ने बांग्ला तथा संस्कृत से नाटकों का अनुवाद  भी किया
  • हास्य प्रधान व्यंग ‘पंच महाजन’ भी लिखा