भारत की भू-आकृतिक प्रदेश Geographical Region of India : SARKARI LIBRARY

सामान्य परिचय (General Introduction) 

  • भारतीय उपमहाद्वीप की वर्तमान भू-वैज्ञानिक संरचना व इसके क्रियाशील भू-आकृतिक प्रक्रम मुख्यतः अंतर्जनित व बहिर्जनिक बलों तथा प्लेट के क्षैतिज संचरण की अंत:क्रिया के परिणामस्वरूप अस्तित्व में आए हैं। 
  • भू-वैज्ञानिक संरचना व शैल समूह की भिन्नता के आधार पर भारत को तीन भू-वैज्ञानिक खंडों में विभाजित किया जाता है, जो भौतिक लक्षणों पर आधारित हैं
    • प्रायद्वीपीय खंड 
    • हिमालय और अन्य अतिरिक्त प्रायद्वीपीय पर्वतमालाएँ
    • सिंधु-गंगा-ब्रह्मपुत्र का मैदान 
  • किसी स्थान की भू-वैज्ञानिक संरचना, प्रक्रिया और विकास की अवस्था का परिणाम है। भारत में धरातलीय विभिन्नताएँ बहुत महत्त्वपूर्ण हैं जिसके आधार पर भारत को निम्नलिखित भौगोलिक आकृतियों में विभाजित किया जाता है

1. उत्तरी तथा उत्तर-पूर्वी हिमालय

OPEN

2. उत्तरी भारत का विशाल मैदान

OPEN

3. भारतीय मरुस्थल 

OPEN

4. प्रायद्वीपीय पठार 

OPEN

5. तटीय मैदान

OPEN

6. भारत के द्वीप समूह

OPEN