राजकोषीय नीति एवं कर संरचना Fiscal policy and tax structure : SARKARI LIBRARY

राजकोषीय नीति (fiscal policy)

  • बजट(Budget)
  • बजट के प्रकार 
    • एक समान मद बजट
    • निष्पादन बजट
    • आउटकम बजट
    • शून्य आधार बजटिंग
    • जेंडर बजटिंग
  • भारत सरकार की निधियाँ 
    • संचित निधि
    • लोक लेखा निधि
    • आकस्मिक निधि
  • सरकार की प्राप्तियाँ एवं व्यय 
    • कुल सार्वजनिक आय
      • राजस्व प्राप्तियाँ
      • पूंजीगत प्राप्तियाँ
    • कुल सार्वजनिक व्यय 
      • योजनागत व्ययं
      • राजस्व व्यय 
      • गैर-योजनागत व्यय
      • पूंजीगत व्यय 
  • भारत में कर संरचना
  • करारोपण की विधियाँ
    • प्रतिगामी कर प्रणाली
    • प्रगतिशील कर प्रणाली
    • अवक्रमिक कर प्रणाली
    • आनुपातिक कर प्रणाली
  • कर 
  • 1.प्रत्यक्ष कर 
    • पूंजी लाभ कर
    • व्यक्तिगत आयकर
    • संपत्ति कर
    • फ्रिज लाभ कर
    • प्रतिभूति विनिमय कर
    • उपहार कर
  • 2.अप्रत्यक्ष कर 
    • सीमा शुल्क 
    • सेवा कर
    • उत्पाद शुल्क
    • संशोधित मूल्य वर्द्धित कर और केंद्रीय मूल्य संवर्द्धन कर
    • मूल्य वर्द्धित कर
    • केंद्रीय बिक्री कर
    • वस्तु एवं सेवा कर
  • अधिभार 
  • उपकर 
    • कृषि कल्याण उपकर
    • स्वच्छ भारत उपकर
    • वस्तु एवं सेवा उपकर
  • कर उत्प्लावकता
  • कर अपवंचन
  • कर बचाव 
  • कर विवर्तन
  • कर आश्रय / टैक्स हैवेन
  • एंटी डंपिंग ड्यूटी 
  • प्रतिकारी शुल्क 
  • लैफर वक्र 
  • घाटे को विभिन्न अवधारणाएँ/प्रकार 
    • बजट घाटा 
    • प्राथमिक घाटा 
    • राजस्व घाटा
    • मौद्रिकृत घाटा
    • प्रभावी राजस्व घाटा
    • क्रियात्मक घाटा
    • राजकोषीय घाटा
  • राजकोषीय दुश्चक्र 
  • राजकोषीय समेकन
    • राजकोषीय उत्तरदायित्व एवं बजट प्रबंधन अधिनियम, 2003
    • घाटे की वित्त व्यवस्था या हीनार्थ प्रबंधन
    • क्राउडिंग आउट इफेक्ट
    • व्यय सुधार आयोग
    • व्यय प्रबंधन आयोग
  • वित्त आयोग 
  • अभ्यास प्रश्न

 बजट (Budget)

  • बजट (Budget) शब्द का विकास फ्रेंच शब्द ‘बूजेट (Bougette) से हुआ है, जिसका शाब्दिक अर्थ है-एक छोटा चमड़े का थैला(बैग)। 
  • इंग्लैंड के प्रथम प्रधानमंत्री सर रॉबर्ट वालपोल (1721-1742) 
  • भारत में बजट प्रणाली की शुरुआत का श्रेय वायसराय कैनिंग को जाता है। 
  • 1859 में वॉयसराय की कार्यकारिणी परिषद मेंपहली बार एक विशेष सदस्य सर जेम्स विल्सन को वित्त सदस्य के रूप में सम्मिलित किया गया । 
  • जेम्स विल्सन ने पहली बार 7 अप्रैल, 1860 को वायसराय की कार्यकारिणी परिषद में प्रथम बजट प्रस्तुत किया ।
  • भारत में बजट प्रणाली का संस्थापक जेम्स विल्सन को माना जाता है।
  • अनुच्छेद 112 : केन्द्र सरकार का बजट/ ‘वार्षिक वित्तीय विवरण’ के संबंध में व्यवस्था 
  • अनुच्छेद 202 : राज्य सरकारों की बजट के संबंध में व्यवस्था 
  • राष्ट्रपति द्वारा निर्देशित तिथि पर लोकसभा में बजट पेश की जाती है। 
  • यदि  बजट लोक सभा द्वारा पारित नहीं होता है तो प्रधानमंत्री अपनी मंत्रिपरिषद का त्यागपत्र पेश कर देता है।
  • प्रारंभ में रेल बजट और आम बजट एक साथ ही प्रस्तुत किया जाता था 
  • लेकिन 1921 में नियुक्त ऑकवर्थ कमिटी की सिफारिशों के आधार पर 1924 में यह निर्णय लिया गया कि रेल बजट को आम बजट से अलग प्रस्तुत किया जाये और 1925 में पहली
  • बार रेल बजट को अलग से पेश किया गया और तभी से रेल बजट को आम बजट से अलग प्रस्तुत किया जाने लगा। 
  • लेकिन 2017 में भाजपा सरकार ने रेल बजट को आम बजट के साथ पेश करने का निर्णय लिया ।
  • स्वतंत्र भारत का पहला बजट 26 नवम्बर, 1947 को पहले वित्तमंत्री आर. के. षणमुखम शेट्टी द्वारा पेश किया गया था । यह बजट 15 अगस्त, 1947 से 31 मार्च, 1948 तक के साढ़े सात माह की अवधि के लिए था।
  • जॉन मथाई को वर्ष 1950 में गणतंत्र भारत का पहला केन्द्रीय बजट पेश करने का गौरव प्राप्त हुआ ।
  • भारत में अभी तक (वर्ष-2022) सबसे अधिक बार बजट पेश करने वाले वित्तमंत्री मोरारजी देसाई थे । उन्होंने कुल 10 बजटपेश किये, जबकि पी. चिदम्बरम ने 8 बजट पेश किये।
  • वित्तमंत्री के रूप में वर्ष 1991 में डॉ. मनमोहन सिंह ने देश में आर्थिक उदारीकरण की नीति लागू करने की घोषणा की।
  • अंग्रेजों ने भारत के लिए बजट पेश करने का समय शाम के पाँच बजे का समय रखा गया था, लेकिन 1999 में  वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने बजट पेश करने का समय दिन के 11 बजे कर दिया।
  • भारत में बजट सामान्यतः निम्नलिखित अनुमानों को व्यक्त करता है— 
  • 1. विगत वर्ष के वास्तविक प्राप्तियाँ तथा व्यय 
  • 2.चालू वित्त वर्ष के बजट अनुमान और संशोधित अनुमान 
  • 3. आगामी वर्ष के प्रस्तावित बजट अनुमान, 
  • इस प्रकार भारत में बजट प्रस्तुतीकरण का संबंध 3 वर्षों के आँकड़ों से होता है ।

Leave a Reply