छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 (Chhotanagpur Tenancy Act, 1908 )

  • Post author:
  • Post category:Blog
  • Reading time:14 mins read

 छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 Chhotanagpur Tenancy Act, 1908 : 

  • लागु – 11 नवम्बर , 1908 
    • संथाल परगना प्रमंडल को छोड़ बाकि सभी 4 प्रमंडल के  18 जिले में 
  • अध्याय – 19
  • धारा – 271
  • अनुसूची – 2

 

अध्याय 

धारा 

sarkarilibrary.in

1

1-3 प्रारंभिकी

2

4-8 काश्तकारों के वर्ग

3

9-15 भू-धारक

4

16-36 रैयत

5

37 छूटकट्टी अधिकार प्राप्त रैयत

6

38-42 अनधिभोगी रैयत

7

43 अध्याय 4 तथा अध्याय 6 से छूट प्राप्त भूमि

8

44-51 जोतों और भूधृत्तियों के पट्टे और अंतरण

9

52-63 लगान के बारे में साधारण उपबंध

9a

63A- 63B बंजर भूमि का बंदोबस्त

10

64-75 भूस्वामी तथा काश्तकार के लिए प्रकीर्ण उपबंध

11

76-79 रूढ़ि और संविदा

12

80-100 अधिकार-अभिलेख (Record of Rights) और लगानों का निर्धारण

13

101-117 भूमि संबंधी शर्ते एवं उनका रूपांतरण और अभिलेख

14

118-126 भूस्वामियों की विशेषाधिकारयुक्त भूमि का अभिलेख

15

127-134 अधिकार अभिलेख तथा र्टकट्टी अधिकार वाले रैयत, ग्राम मुखिया तथा अभिधारियों के अन्य वर्गों की बाध्यताएँ

16

135-229 उपायुक्त द्वारा संज्ञेय विषयों की न्यायिक प्रक्रिया

16A

229A बिहार और उड़ीसा लोक मांग वसूली अधिनियम, 1914 के अधीन लगानों के वूसली की संक्षिप्त प्रक्रिया

17

230-238 परिसीमा

18

239-256 मुण्डारी छूटकट्टीदारों के विषय में विशेष उपबंध

19

257- 271 अनुपूरक उपबंध

 

Previous Year Questions : sarkarilibrary.in

  • सन् 1862 में किसके नेतृत्व में भुईहरी भूमि तथा मझियस भूमि को चिन्हित करने हेतु भुईहरी सर्वे प्रारंभ किया गया था ? – बाबू राखलदास हलधर
  • छोटानागपुर भूस्वामी एवं काश्तकारी प्रक्रिया अधिनियम कब पारित हुआ ? 
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम को कब लागू किया गया ? – 11 नवंबर, 1908
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम का खाका किसने तैयार किया था ? जॉन एच. हॉफमैन
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम कुल कितने अध्यायों में विभाजित है ? 19
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम में कुल कितनी धाराएँ हैं ? – 271
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम का एक प्रमुख उद्देश्य है ? भूमि संबंधी विवादों का निपटारा
  • सीएनटी एक्ट के तहत् ऐसी जंगली भूमि जिसे भूस्वामी के अतिरिक्त किसी अन्य कृषक द्वारा तैयार की गयी हो, क्या कहलाता है ? – कोरकर
  • वैसी भूधृत्ति, जिसे परिवार के पुरूष वारिस न होने पर, रैयत के निधन के बाद पुनः भूस्वामी को वापस कर दिया जाता है, उसे कहते हैं  ? – पुनर्ग्राह्य भूधृत्ति

sarkarilibrary.in

  • बंगाल, बिहार और उड़ीसा में अंग्रेजी सरकार द्वारा कब स्थायी बंदोबस्त लागू किया गया – 1793
  • अनधिभोगी रैयत है ? – रैयत का एक प्रकार
  • वह व्यक्ति जो किसी व्यक्ति की जमीन खेती कार्य हेतु धारण करता है तथा उसका लगान चुकाता है, उसे सीएनटी एक्ट के तहत क्या कहा जाता है ? – भूधारक
  •  वह मुण्डारी जिसने जंगली भूमि के किसी हिस्से को जोत में लाने हेतु भूमि का अधिकार अर्जित किया हो, उसे सीएनटी एक्ट के तहत क्या कहा जाता है ? – मुण्डारी खूँटकट्टीदार
  • छोटानागपुर भूधृत्ति अधिनियम, 1869 के तहत तैयार रजिस्टर में शामिल भूमि को कितने वर्षों तक धारण करने पर भुईहर को स्थायी बंदोबस्त समझा जाएगा – 12 वर्ष
  • सीएनटी एक्ट की किस धारा के तहत सिंहभूम जिले के सरायकेला और खरसावां अनुमंडल में रैयत द्वारा फलों के उद्यान, खलिहान और खाद गड्ढा के रूप में प्रयुक्त जोत के लिए कोई लगान का भुगतान नहीं किया जाएगा / धारा-24
  • सीएनटी एक्ट की किस धारा में रैयत के जोत के लगान में कमी के संबंध में प्रावधान किया गया है ? धारा-33क
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1869 के अंतर्गत पद ‘भुईहरी रैयती’ की परिभाषा में सम्मिलित किया गया है ? मुंडा को
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 की किस धारा के तहत अनुसूचित जनजाति / पिछड़ा वर्ग / अनुसूचित जाति भूमि के हस्तांतरण पर प्रतिबंध प्रदान की गई है  ? 46
  • धारा 46 के तहत बेदखली के समय, …….वर्ष है, जिसके तहत इस अवधि के समाप्ति के बाद प्रतिकूल कब्जे में रही भूमि का हस्तांतरण परिपूर्ण होगा ? 12

sarkarilibrary.in

  • ‘हिल एसेंबली प्लान’ किसके द्वारा आदिवासी उन्नति के लिए किया गया था। – क्लीवलैंड  
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 की धारा 37 के तहत किसी खूँटकट्टी अधिकार प्राप्त रैयत….. वर्षों से अधिक की काश्तकारी सृजित की गई हो, तो भूमि का लगान नहीं बढ़ाया जाएगा – 20
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 की धारा 46 के तहत किसी रैयत द्वारा अधिकतम कितनी अवधि के लिए अपनी जोत या उसके किसी भाग का अंतरण किया जा सकता है ? – 5 वर्ष
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 की धारा 46 के तहत कोई रैयत ………. वर्षों से कम किसी अवधि के लिए अपनी जोत या उसके किसी भाग को भुगतबंध बंधक कर सकता है। – 15
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 की किस धारा के तहत किसी न्यायालय द्वारा किसी रैयत के जोत के विक्रय हेतु कोई आदेश पारित नहीं किया जाएगा ? – 47
  • छोटानागपुर काश्ताकरी अधिनियम, 1908 की धारा 53 के तहत निम्न में से किस रीति से लगान का भुगतान किया जाएगा ? – माल कचहरी में या डाक मुद्रादेश द्वारा
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम 1908 की धारा 58 के तहत बकाया लगान पर अधिकतम कितने प्रतिशत वार्षिक की दर से साधारण ब्याज प्रभारित किया जा सकता है ? 6.25%
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 की किस धारा के तहत किसी भूस्वामी द्वारा काश्तकार से लगान के अतिरिक्त अवैध रकम वसूलने पर दण्ड का प्रावधान किया गया है – धारा 63 
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 की किस धारा के तहत राज्य सरकार की किसी बंजर भूमि को बंदोबस्त किया जा सकता है ? धारा 63क
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 के तहत कोड़कर का क्या तात्पर्य है?  कोड़कर तैयार की गई भूमि
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 की किस धारा के अंतर्गत उपायुक्त के आदेश से भूमि को कोड़कर में परिवर्तन किया जा सकता है। धारा 64

sarkarilibrary.in

  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 की धारा 67क के तहत कोड़कर में परिवर्तित किसी भूमि पर कितने वर्षों तक लगान देय नहीं होगा ? – 4 वर्ष
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 की किस धारा के तहत राज्य सरकार भूस्वामी, कश्तकारों या अन्य व्यक्तियों के बीच जल के उपयोग या बहाव से संबंधित विवादों का समाधान करने तथा उसका सर्वेक्षण करने का आदेश राजस्व अधिकारी को दे सकती है ? धारा 82
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनिमय, 1908 की किस धारा में भूस्वामी की विशेषाधिकारयुक्त भूमि की परिभाषा दी गई है ? धारा 118
  • छोटानागपुर काश्तकारी अधिनिमय 1908 की किस धारा के तहत किस मुण्डारी खूँटकट्टीदारी काश्ताकारी के अंतरण को प्रतिबंधित किया गया है ? धारा 240