करमाली जनजाति झारखण्ड की जनजातियाँ JPSC/JSSC/JHARKHAND GK/JHARKHAND CURRENT AFFAIRS JHARKHAND LIBRARY

JPSC/JSSC/JHARKHAND GK/JHARKHAND CURRENT AFFAIRS JHARKHAND LIBRARY

झारखण्ड की जनजातियाँ।। करमाली जनजाति

करमाली जनजाति

  • यह जनजाति झारखण्ड के सदान समुदाय की जनजाति है।
  • इस जनजाति का संबंध प्रोटो-ऑस्ट्रेलायड समूह से है।
  • इस जनजाति की मातृभाषा खोरठा है तथा बोलचाल हेतु करमाली भाषा (ऑस्ट्रो-एशियाटिक भाषा परिवार से संबंधित) का प्रयोग किया जाता है।
  • झारखण्ड में इनका निवास मुख्यतः हजारीबाग, चतरा, कोडरमा, गिरिडीह, राँची, सिंहभूम व संथाल परगना में पाया जाता है।
  • इस जनजाति की नातेदारी व्यवस्था हिन्दू समाज के समान है।
  • यह जनजाति सात गोत्रों (कछुवार, कैथवार, संढवार, खालखोहार, करहर, तिर्की व सोना) में विभाजित है।
  • ice screenshot 20210511 221554

  • इस जनजाति में आयोजित विवाह, गोलट विवाह, विनिमय विवाह. राजी विवाह, ढुकू विवाह आदि अत्यंत प्रचलित हैं।
  • इस जनजाति में वधु मूल्य को ‘पोन’ या ‘हढुआ’ कहा जाता है।
  • इनके पंचायत के प्रमुख को मालिक कहा जाता है।
  • इस जनजाति में टूसु पर्व (अन्य नाम- मीठा परब या बड़का परब) प्रमुखता से मनाया जाता है। इसके अतिरिक्त ये सरहुल, करमा, सोहराई, नवाखनी आदि पर्व मनाते हैं।
  • यह एक दस्तकार या शिल्पकार जनजाति है तथा इनका परंपरागत पेशा लोहा गलाना और औजार बनाना है।अस्त्र-शस्त्र के निर्माण में यह जनजाति अत्यंत दक्ष होती है।
  • इनके प्रमुख देवता सिंगबोंगा हैं।
  • इनके पुजारी को पाहन या नाया कहा जाता है।
  • इस जनजाति में ओझा भी पाया जाता है जिसके पवित्र स्थान को ‘देउकरी’ कहा जाता है।
  • इस जनजाति के लोग दामोदर नदी को अत्यंत पवित्र मानते हैं।

JPSC/JSSC/JHARKHAND GK/JHARKHAND CURRENT AFFAIRS JHARKHAND LIBRARY