BIOLOGY INTRODUCTION CHAPTER 1

 CHAPTER 1 – INTRODUCTION

  • बायोलॉजी शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग –  1801 में लैमार्क (फ्राँस) और ट्रेविरेनस (जर्मनी) ने किया था। 
  • जीव विज्ञान का जनक (Father of Biology)  – अरस्तू (Aristotle) को 
  • जंतु विज्ञान का जनक (Father of Zoology) अरस्तू को 
    • पुस्तक –  ‘Historia Animalium‘ – 500 जंतुओं का वर्णन 
  • वनस्पति विज्ञान का जनक (Father of Botany) -थियोफ्रेस्टस (Theophrastus) को 
    • पुस्तक – ‘Historia Plantarum’ 

 

सजीवों के गुण (Characteristics of Living Organisms) 

  1. कोशिकीय संगठन (Cellular Organisation)
  2. उपापचय (Metabolism)
  3. वृद्धि (Growth)
  4. प्रजनन (Reproduction)
  5. चेतना (Consciousness)
  6. गति (Movement)
  7. पोषण (Nutrition) 
  8. उत्सर्जन (Excretion)

 

कोशिकीय संगठन (Cellular Organisation)

  • सभी सजीवों की संरचनात्मक एवं क्रियात्मक इकाई – कोशिका (Cell) है। 

उपापचय (Metabolism)

  • सजीवों के शरीर में होने वाली सभी जैव रासायनिक क्रियाओं को संयुक्त रूप से उपापचय कहते हैं। 
  • ये सजीव के वृद्धि एवं विकास, प्रजनन, तथा अनुकूलन के लिए अत्यंत आवश्यक हैं। 

ये दो प्रकार की होती हैं

  • उपचयन (Anabolism)
  • अपचयन (Catabolism)

Difference Between Catabolism and Anabolism

Catabolism

अपचयन

Anabolism

उपचयन

जटिल अणु टूटकर सरल अणुओं का निर्माण

complex molecules  To smaller molecules.

सरल अणुओं से जटिल अणुओं का निर्माण.

smaller molecules  To complex molecules.

catabolism releases energy.

अपचयन ऊर्जा मुक्त करता है।

जैसे- वृद्धि (Growth) क्रिया

Anabolic require energy.

उपचयन को ऊर्जा की आवश्यकता 

जैसे-श्वसन (Respiration) क्रिया

Hormones involved in catabolism processes are  adrenaline, cytokine, glucagon, and cortisol.

Hormones involved in the Anabolic process are  estrogen, testosterone, growth hormones and insulin.

Examples of catabolic processes are proteins becoming amino acids

glycogen breaking down into glucose 

triglycerides breaking up into fatty acids.

Examples include the formation of polypeptides from amino acids, 

glucose forming glycogen 

fatty acids forming triglycerides.

In catabolism, potential energy is changed into kinetic energy.

In anabolism, kinetic energy is converted into potential energy.

जीवों में विभिन्न गतिविधियों को करने के लिए इसकी आवश्यकता होती है।

यह रखरखाव, विकास और भंडारण के लिए आवश्यक है।

 

वृद्धि (Growth)

  • भोजन का उपयोग कर सजीवों में नई कोशिकाओं का निर्माण 

प्रजनन (Reproduction)

  • सजीवों द्वारा अपने समान जीवों को जन्म देने की क्षमता 

चेतना (Consciousness)

  • यह सजीवों को निर्धारित करने वाला गुण है। 
  • संवेदनशीलता (Sensitivity)/प्रतिक्रिया करने की क्षमता 

 

पौधों तथा जंतुओं में विभेद

(Cell Structure)

विशेषताएँ

पादप (plants)

जंतु (animals)

कोशिका भित्ति (Cell Wall)

पादप (Plants) पादप कोशिकाओं में कोशिका भित्ति पाई जाती है जो ‘सेल्युलोस‘की बनी होती है।

जंतु कोशिकाओं में कोशिका भित्ति की जगह ‘कोशिका झिल्ली‘ पाई जाती है। 

क्लोरोप्लास्ट (Chloroplast)

क्लोरोप्लास्ट में क्लोरोफिल की उपस्थिति के कारण पादप हरे रंग के होते हैं।

इनमें क्लोरोप्लास्ट अनुपस्थित होता है।

रसधानी (Vacuole)

पादप कोशिकाओं में बड़ी रसधानियाँ पाई जाती हैं जो ‘कोशिका द्रव्य’ (Cell Sap) से भरी होती हैं। 

जंतु कोशिकाओं में पादप कोशिकाओं की तुलना में छोटी रसधानियाँ पाई जाती हैं। 

तारककाय (Centrosome)

कुछ पादपों में अनुपस्थित होता है।

जंतु कोशिकाओं में अक्सर केंद्रक के पास पाया जाता है तथा कोशिका विभाजन में सहायक होता है।

पोषण (Nutrition)

पादप अपना भोजन स्वयं तैयार (स्वपोषी) करते हैं।

जंतु अपने भोजन हेतु पौधों एवं अन्य जंतुओं पर निर्भर (परपोषी) करते हैं। (अपवाद-यूग्लीना)

गति  (Movement)

मृदा में स्थिर होते हैं, (अपवाद : शैवाल क्लेमाइडोमोनास) परंतु पत्तियों एवं कलियों में हल्का संचार होता है।

जंतु भोजन हेतु गति करते हैं। 

(अपवाद कोरल एवं स्पंज)

वृद्धि (Growth)

जड़ों एवं तनों के शीर्ष पर पाए जाने वाले विभज्योतक क्षेत्र (Meristematic Zone) के कारण पादप पूरे जीवन काल में वृद्धि करते रहते हैं।

जंतुओं में वृद्धि एक निश्चित आयु तक होती है

उत्सर्जन (Excretion)

पादपों में विकसितउत्सर्जी तंत्र का अभाव होता है। ये हानिकारक उत्पादों, यथा- तेल, गोंद आदि का स्राव करते हैं जो इनके शरीर मे संचित रहते हैं। 

ये विकसितउत्सर्जन तंत्र की सहायता से अमोनिया, यूरिया, यूरिक अम्ल आदि अपशिष्ट पदार्थों का उत्सर्जन करते हैं।

अनुक्रिया (Response)

पादपों में तंत्रिका तंत्र एवं संवेदी अंगों का अभाव होता है, जिस कारण विभिन्न उद्दीपनों, यथा- प्रकाश, संपर्क आदि के प्रति इनकी प्रतिक्रिया धीमी होती है।

जंतुओं में विकसित तंत्रिका तंत्र एवं संवेदी अंग पाए जाते हैं जो उद्दीपनों के प्रति तुरंत प्रतिक्रिया देते हैं।

 

जीवों के नामकरण की द्विनाम पद्धति

  • जीवों के आधुनिक वर्गीकरण की शुरुआत कैरोलस लीनियस (Carolus Linnaeus) के द्विजगत-सिद्धांत (Two Kingdom Classification) से होती है। 
    1. जंतु जगत (KingdomAnimal) 
    2. पादप जगत (Kingdom-Plantae) 
  • वर्गिकी का पिता (Father of Taxonomy) – कैरोलस लीनियस 
  • कैरोलस लीनियस ने जीवों के नामकरण की द्विनाम पद्धति को 1753 में दिया। 
  • उदाहरण – होमो सेपियंस (Homo sapiens) – मानव का वैज्ञानिक नाम
  • Homo sapiens = Homo + sapiens 
    • पहला शब्द Homo = वंश नाम (Generic Name)
    • दूसरा शब्द  sapiens = जाति नाम (Species Name) 

 

जीवों के पाँच जगत वर्गीकरण

  • व्हिटेकर (R.H.Whittaker) ने ‘पाँच जगत वर्गीकरण’ दी है। 
  • उन्होंने जीवों को पाँच जगत (Kingdom) में बाँटा। 

ये पाँच जगत हैं

  • 1.मोनेरा  (Monera)
  • 2.प्रोटिस्टा (Protista)
  • 3.कवक (Fungi)
  • 4.पादप (Plantae) 
  • 5.जंतु (Animalia)

 

1.मोनेरा  (Monera)

  • यह एककोशिकीय प्रोकैरियोटिक जीवों का समूह है अर्थात् इनमें न तो संगठित केंद्रक होता है और न ही विकसित कोशिकांग होते हैं। 
  • इनमें केंद्रिका झिल्ली का अभाव होता है। 
  • इनमें से कुछ में कोशिका भित्ति पाई जाती है तथा कुछ में नहीं। 
  • पोषण के स्तर पर ये स्वपोषी रसायन संश्लेषी/प्रकाश संश्लेषी अथवा विषमपोषी मृत जीवी/परजीवी दोनों हो सकते हैं। 
  • उदाहरणार्थः जीवाणु, यथा-नील हरित शैवाल अथवा सायनो बैक्टीरिया, माइकोप्लाज्मा आदि। 

 

प्रोटिस्टा(Protista) 

  • इनमें एककोशिकीय यूकैरियोटिक जीव आते हैं। हालाँकि कभी-कभी  ये बहुकोशिकीय भी होते हैं, यथा-केल्प या समुद्री घास। 
  • प्रोटिस्टा जगत पादप, जंतु एवं कवक जगत के बीच कड़ी का कार्य करता है। 
  • इस वर्ग के कुछ जीवों में गमन के लिये सीलिया, फ्लैजेला नामक संरचनाएँ भी पाई जाती हैं। 
  • कुछ में कोशिका भित्ति पाई जाती है। 
  • इनमें केंद्रिका झिल्ली पाई जाती है तथा ये स्वपोषी और विषमपोषी दोनों तरह के होते हैं। 
  • उदाहरणार्थ-एककोशिकीय शैवाल, डायटम, प्रोटोजोआ, यूग्लीना, पैरामीशियम, क्लोरेला, अमीबा आदि इसी जगत के सदस्य हैं। 

 

कवक (Fungi)

  • ये बहुकोशिकीय यूकैरियोटिक जीव हैं। 
  • ये विषमपोषी होते हैं जो पोषण के लिये सड़े-गले कार्बनिक पदार्थों पर निर्भर रहते हैं, अतः इन्हें मृतजीवी भी कह दिया जाता है। 
  • इनमें से कई अपने जीवन की एक विशेष अवस्था में बहुकोशिकीय क्षमता प्राप्त कर लेते हैं।
  •  इन कवकों में काइटिन (Chitin) नामक जटिल शर्करा की बनी हुई कोशिका भित्ति (सेल्युलोस अनुपस्थित) पाई जाती है। 
  • यीस्ट, पेंसीलियम, मशरूम आदि इसी जगत के सदस्य हैं।

 

सूक्ष्म जीव (Microorganism) 

संरचना के आधार पर सूक्ष्म जीवों का वर्गीकरण

सबसेलुलर (Subcellular):

  • इस प्रकार की संरचना में DNA या RNA एक प्रोटीन आवरण द्वारा घिरा हुआ होता है। जैसे-विषाणु (Virus)। 
  • विषाणु सूक्ष्म आकार के होते हैं परंतु ये अपना पोषण स्वयं नहीं करते। 
  • इसके लिये इन्हें मेज़बान (Host) की आवश्यकता होती है। 
  • ये जीवाणु पौधों तथा जीवों मे गुणन कर वृद्धि कर सकते हैं। 
  • इन्हें निर्जीव एवं सजीव के बीच की कड़ी भी कहा जाता है। 
  • वायरस की खोज रूसी वैज्ञानिक दमित्री इवानविस्की ने 1892 में तंबाकू में मौजेक रोग की खोज के दौरान की थी। 
  • कुछ सामान्य रोग, जैसे- जुकाम, फ्लू, खाँसी आदि विषाणुओं के द्वारा होते हैं। पोलियो और खसरा जैसी खतरनाक बीमारियाँ भी वायरस के कारण होती हैं।

 

प्रोकैरियोटिक (Prokaryotic): 

  • इनकी कोशिका संरचना साधारण होती है जिसमें केंद्रक एवं उपांग (Organelles) उपस्थित नहीं होते, जैसे- जीवाणु (Bacteria)। 
  • यह प्रोकैरियोटिक एक कोशिकीय सरल जीव है। 
  • ये मोनेरा जगत के अंतर्गत वगीकृत किये गए हैं। कुछ बैक्टीरिया, जैसे- नॉस्टॉक एवं एनाबिना पर्यावरण के नाइट्रोजन का स्थिरीकरण कर सकते हैं। 
  • ये नाइट्रोजन, फास्फोरस, आयरन एवं सल्फर जैसे पोषकों के पुनर्चक्रण में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। 

यूकैरियोटिक (Eukaryotic): 

  • इनकी कोशिका संरचना जटिल होती है जिसमें केंद्रक एवं उपांग उपस्थित होते हैं, जैसे-  प्रोटोजोआ, कवक, शैवाल आदि। 
  • अधिकांश कवक परपोषित मृतजीवी होते हैं। 
  • इनमें जनन कायिक खंडन, विखंडन तथा मुकुलन द्वारा होता है। 
  • इनका उपयोग ब्रेड, बीयर इत्यादि बनाने में किया जाता है। 
  • कुछ कवक मानव स्वास्थ्य के लिये हानिकारक हैं। गंजापन, दमा एवं दाद-खाज का एक प्रमुख कारण कवक है। इसके अलावा फसलों के कई रोग कवक द्वारा फैलते हैं, जैसे- गेहूँ का रस्ट रोग। खमीर और मशरूम भी कवक हैं। 
  • सभी प्रोटोजोआ परपोषी होते हैं और प्रायः परजीवी के रूप में अन्य जीवों पर निर्भर रहते हैं। 
  • ट्रिपैनोसोमा नामक निद्रा रोग का कारण भी प्रोटोजोआ ही हैं। 
  • साथ ही मलेरिया, पेचिस जैसे रोग भी प्रोटोजोआ के कारण होते हैं।
  • नोटः सर्दी-जुकाम तथा फ्लू में एंटीबायोटिक दवाएँ प्रभावशाली नहीं होती क्योंकि ये रोग विषाणुओं द्वारा फैलते हैं। 

 

जंतु (Animalia)

  • यह यूकैरियोटिक, बहुकोशिकीय, विषमपोषी प्राणियों का वर्ग है जो कोशिका भित्ति रहित कोशिकाओं से बना है। 
  • प्राणियों की संरचना एवं आकार में भिन्नता होते हुए भी उनकी कोशिका व्यवस्था, शारीरिक सममिति, पाचन तंत्र, परिसंचरण तंत्र एवं जनन तंत्र की रचना में कुछ आधारभूत समानताएँ पाई जाती हैं। इन्हीं विशेषताओं को वर्गीकरण का आधार बनाया गया है।

 

पादप (Plantae)

  • यह सेल्युलोस से बने कोशिका भित्ति वाले बहुकोशिकीय यूकैरियोटिक जीवों का समूह है। 
  • ये स्वपोषी होते हैं और प्रकाश संश्लेषण प्रक्रिया द्वारा स्वयं का भोजन बनाते हैं। 
  • अतः क्लोरोफिलधारक सभी पौधे इस वर्ग के सदस्य हैं। इनका शरीर ऊतकों एवं अंगों से निर्मित होता है। 

Branches of Biology Definition

  • Agrostology  : घासों का वैज्ञानिक अध्ययन
  • Agrology  : मृदा विज्ञान विशेष रूप से फसल के उत्पादन से संबंधित है
  • Agronomy Science of soil management and production of the crop
  • Allometry Study of the relationship of body size to shape, anatomy, physiology and
    finally behavior.
  • Anthology :फूलों का अध्ययन
  • Anatomy It is a branch of biology which deals with the study of internal structure of
    an organism as revealed by dissection.
  • Aphidology :  Study of Aphids (Plant Lice)
  • Archaeobiology :  Study of the biology of ancient times through archaeological materials.
  • Anthropology : The science of man and mankind including his physical and mental constitution, cultural development and social conditions of present and pastis called anthropology.
  • Agriology Study of customs of primitive man.
  • Arthrology Study of joints.
  • Aerobiology Study of flying organisms in relation with other flying objects
  • Biocybernetics Application of Cybernetics to Biological Sciences.
  • Bacteriology Study of bacteria.
  • Biophysics Study of physical aspects of living systems.
  • Biochemistry Study of chemicals constituting the body and chemical reactions.
  • Biotechnology Utilization of living organisms in Industrial Processes
  • Biogeography Study of the geographic distributions of living organisms.
  • Bionics : बायोनिक्स, कृत्रिम प्रणालियों के निर्माण का विज्ञान जिसमें जीवित प्रणालियों की कुछ विशेषताएं होती हैं। बायोनिक्स बायोमेडिकल इंजीनियरिंग की एक शाखा है जो जीव विज्ञान और इलेक्ट्रॉनिक्स को जोड़ती है।
  • Cell Biology Study of structure, functions, reproduction, and life cycle of cells.
  • Chronobiology Study of time-dependent phenomena in living organisms.
  • Ctetology Study of acquired characters of organisms.
  • Craniology Study of skulls
  • Cryobiology Study of the effects of low temperatures on living organisms.
  • Cytology Study of the detailed structure of cells.
  • Cardiology Study of heart and its functioning.
  • Dendrology Study of shrubs and trees.
  • Ecology Study of relationships between organism and environment.
  • Eidonomy Study of the external appearance of an organism.
  • Endocrinology :  नलिकाविहीन ग्रंथियों (ductless glands) और उनके हार्मोनों का अध्ययन
  • Ethology  : जानवरों के व्यवहार का अध्ययन
  • Ethno biology Study of the way plants and animals are treated or used by different human cultures.
  • Evolution Study of origin of life, variation and formation of new species.
  • Etiology Study of the causative agent of disease.
  • Entomology Study of the life history of insects.
  • Eugenics Study of science dealing with factors which improve successive generations of the human race
  • Euthenics Science deals with the improvement of future of humanity by changing
    environment.
  • Euphenics Treatment of defective in heredity through genetic engineering.
  • Enzymology Study of enzymes
  • Embryology Study of development of embryo and its growth and repair.
  • Exobiology Study of the possibility of life in space.
  • Esthesiology Scientific study of sensation.
  • Floriculture Cultivation of flower yielding plants.
  • Forensic Biology Application of Biology to law enforcement.
  • Fermentation Process of incomplete oxidation that occur in microbes and other cells in
    absence of oxygen, leading to the formation of ethyl alcohol.
  • Forestry Development and management of forest.
  • Food technology Scientific processing, preservation, storage and transportation of food.
  • Fishery Catching, breeding, rearing and marketing of fishes.
  • Forensic science Application of science for identification of various facts of civilian.
  • Genetics Study of heredity and variations.
  • Growth Permanent increase in weight, volume and size of an organism.
  • Genetic Engineering Manipulation of gene in order to improve the organism.
  • Gerontology  : उम्र बढ़ने के सामाजिक, मनोवैज्ञानिक, संज्ञानात्मक और जैविक पहलुओं का अध्ययन।
  • Gynecology Study of the female reproductive organ.
  • Gastroenterology Study of alimentary canal or stomach, intestine and their disease.
  • Glycobiology Study of the structure, biosynthesis, and biology of saccharides (sugar
    chains or glycan’s)
  • Haematology Study of blood and disease caused by it.
  • Hepatology Study of Liver
  • Hygiene Science taking care of health
  • Helminthology Study of parasitic worms
  • Hydroponics  : पानी में मिट्टी के बिना पौधे उगाने का अध्ययन जिसमें पोषक तत्व होते हैं
  • Hypotonic In two solutions which have lower solute concentration is called hypotonic.
  • Herpatology Study of reptiles
  • Hydrobiology Science of life and life processes in water.
  • Immunology Study of natural or acquired resistance to specific diseases.
  • Ichthyology Study of fish and its culture
  • Karyology Study of the nucleus
  • Katology Study of Human Beauty
  • Kinesiology Study of muscle movements
  • Koniology Study of dust in relation to its effects on health.
  • Limnology Study of snails
  • Lipidology Study of lipids
  • Mastology Study of breasts
  • Morphology Study of form and structure
  • Myology Study of muscles
  • Mycology Study of fungi
  • Microbiology Study of microorganisms like bacteria and viruses
  • Molecular Biology Study of chemicals living at the molecular level
  • Metazoans All multicellular animals are called metazoans
  • Mammalogy Study of mammals
  • Malacology Study of molluscs and their shells.
  • Medicine Study of treating disease by drug.
  • Mammography Branch of science which deal test of breast cancer.
  • Mechanobiology Study of interface of Biology and Engineering.
  • Monoecious Plant which have both male and female flower.
  • Neonatalogy Study of new born up to the age of 2 months
  • Nephrology Study of Kidneys
  • Neurology Study of neurons and nerve rings.
  • Nutrients Chemical substance taken as food which are necessary for various function, growth and heath of living.
  • Nosology Classification of diseases
  • Osteology Study of skeletal system
  • Osmosis Movement of water molecule across the semipermeable membrane from
    the region of its higher concentration to the region of lower communication.
  • Odontology Study of Teeth
  • Organology Study of different organs
  • Obstetrics Science related withthe care of pregnant women before, during and after
    childbirth.
  • Ontogeny : Study of various life-cycles
  • Ornithology Study of birds
  • Ophthalmology : Study of eyes
  • Ophiology  : Study of snakes
  • Olericulture  : Study of cultivation of vegetables
  • Orthopaedic  : Diagnosis and repair of disorder of the locomotery system
  • Oncology  : Study of tumors
  • Physiology  : Study of process and function associated with life
  • Pathology  : Study of diseases, effects, causable agents and transmission of pathogens.
  • Phylogeny  : Study of evolutionary relationship among different groups of organisms
  • Paleontology  : Study of fossils
  • Pigment  : A substance which absorb light of certain wavelength like chlorophyll found in green leaves.
  • Parasite : Organism which depend on other living organism for their food and shelter.
  • Parasitology :  Study of parasites
  • Primatology Study of primates
  • Protozeology :  Study of protozoa
  • Physiotherapy :  Treatment of body defects through massage and exercise.
  • Psychiatry :  Treatment of mental disease
  • Pisciculture :  मछलियों का पालन
  • Pedology :  विभिन्न प्रकार की मिट्टियों का अध्ययन
  • Phenomics Study of the physical and biochemical traits of organisms
  • Pediatrics Branch of medicine dealing with children
  • Phenology Study of periodic plant and animal life cycle events.
  • Pomology Study of Fruits
  • Phycology Study of Algae
  • Psychobiology Study of behavioural aspects of animals
  • Phytogeography Study of plant distribution on the earth
  • Pharmocology Scientific study of drugs
  • Photobiology Study of interaction of light and living organisms
  • Protistology Study of protists (Eukaryotic Microorganisms)
  • Phvtoplaniktons Microscopic organism which passively float on the surface of the water.
  • Psychology Study of human mind and behavior
  • Paleobotany Study of distribution and characteristics of fossils.
  • Radiology Study of effects of radiation on the living being
  • Rhinology Study of nose and olfactory organs
  • Sarcology Study of muscles
  • Scotobiology Study of Biological effects of darkness
  • Sonography Study of ultrasound imaging
  • Sociobiology Study of the biological bases of sociology
  • Syndesmology Study of bone joints and ligaments
  • Saurology Study of lizards
  • Serology Study of blood serum
  • Sphygmology : नाड़ी और धमनी दबाव का अध्ययन.
  • Silviculture  : इमारती लकड़ी देने वाले पौधों की खेती का अध्ययन।
  • Sericulture  : रेशम के उत्पादन और रेशम के कीड़ों के पालन का अध्ययन।
  • Splanchnology Study of internal organs
  • Tectology Study of structural organization of the body
  • Trophology Study of nutrition science
  • Traumatology Study of wounds
  • Termitology Study of termites
  • Tricology Study of hairs
  • Toxicology Study of poisons and method of treatment
  • Taxonomy Study of classification, nomenclature and identification ofthe organism.
  • Teratology Study of abnormalities during embryogenesis
  • Therapeutics Treatment of disease
  • Telepathy Communication of thoughts or ideas from one mind to another withoutnormal use of senses. In other word this is the process of mental contact.
  • Urology Study of urine and its diseases
  • Virology Study of viruses
  • Viticulture : अंगूर की खेती
  • Venereology  यौन रोगों (venereal diseases)  का अध्ययन और उपचार
  • Veterinary Science घरेलू पशुओं के स्वास्थ्य देखभाल और उपचार का विज्ञान
  • Xylotomy  : लकड़ी/जाइलम(Xylem) की शारीरिक रचना का अध्ययन
  • Zoology  : जानवरों का अध्ययन
  • Zoogeny  : जानवरों की उत्पत्ति और विकास
  • Zoogeography :  विभिन्न भौगोलिक क्षेत्रों में जानवरों के वितरण का अध्ययन
  • Zymology  : fermentation process /किण्वन प्रक्रिया का अध्ययन
  • Zootechny  : जानवरों के प्रजनन और पालतू बनाने का विज्ञान
  • Zoonosology :  विकलांग जानवरों का अध्ययन
  • Zoopathology  : पशुओं के रोगों का अध्ययन

Previous Year Questions

 अंगूरों का अध्ययन है: [Agricultural Inspector, 2017]

प्लवमान जीन के सिद्धान्त का प्रतिपादन किसने किया था? ITI 2012

कच्चे रेशम के उत्पादन के लिए किया गया रेशमकीट पालन कहलाता है- Jr. Acc. 2016

हिप्पोक्रेट्स विज्ञान की किस शाखा से सम्बन्धित था- (P.S.I. EXAM, 1998)

आनुवांशिकता एवं विभिन्नता के बारे में जानकारी देने वाली वनस्पति विज्ञान की शाखा को कहते हैं ? Raj B.Ed 2002

विज्ञान जिसमें पशु/ मानव शारीरिक संरचना को विच्छेदन द्वारा सीखा जाता है- (P.S.I. EXAM, 2011)

प्रथम टीका (वैक्सीन) विकसित किया गया ? Junior Acc. 2016

 संसार में पौधों का वितरण का अध्ययन कहलाता है ? ITI 2002

गलत संयोजन को चिन्हित कीजिए: [HSSC Clerk 2016 ]

जीवों के व्यवहार का अध्ययन किया जाता है- UP TET (1-V) 27 JUN, 2013

मधुमक्खी पालन का वैज्ञानिक नाम है - | Bihar Police Constable (12.01.2020) ]

 सिल्वीकल्चर सम्बन्धित है- UP TET ( I-V) 27 JUN, 2013

 वनों के विकास का वर्णन वनस्पति विज्ञान की किस शाखा में होता है? RPSI 2003

 पौधों की आन्तरिक संरचना का अध्ययन  कहलाता है ? RPSI 2006

हिस्टोलॉजी किससे सम्बन्धित है? Constable 2002

पीडियाट्रिक्स' निम्नलिखित में से किसके अध्ययन से संबंधित है ?  [ UPSSSC 2015] 

 एक वैज्ञानिक विषाणु रोग ग्रसित पादप के वायरस का अध्ययन करना चाहता है। इसके लिए उसे निम्नलिखित में से कौन से पांदप  भाग का चयन नहीं करना चाहिए?  Junior Accountant 2016

 टीका (वैक्सीनेशन) का आविष्कार किसने किया था ?(BSSC 2016]

 मधुमक्खी पालन कहलाता है? RPSC LDC 2016

 रेशमपालन क्या कहलाता है ? [UPTET,  Oct-2017]

स्पिनिंग जेनी की खोज किसने की : Bihar police Constable (8.3.2020 ) 2nd

जीव विज्ञान (जेरोन्टोलजी) नर्सिंग किससे संबंधित है? ( स्टाफ नर्स (स्वास्थ्य विभाग) 2016 )

 फूलों के संवर्द्धन के विज्ञान को कहते हैं- Bihar Police Constable (12.01.2020) ]

बायोलॉजी के जन्मदाता के रूप में कौन जाने जाते है- RTET 2009

 हाइड्रोपोनिक्स (Hydroponics) में अध्ययन किया जाता है- (RPSC LDC - 17.02.2012)

पेनिसिलीन के जैव प्रतिरोधी गुणधर्मों की खोज की गई- Bihar Police 31.7.2016 , UP Police Constable 19-6-2018

षि पशुओं का वैज्ञानिक प्रबंधन..... कहलाता है । MP Police 3.9.2017

आइनोथेरा लैमार्किएना पौधे पर किसने प्रयोग किए?  Raj. IInd Gr. Teacher Science 2010

पैडोलॉजी में अध्ययन किया जाता है? Raj. B.Ed 2001

परागकणों का अध्ययन कहलाता है? ITI 2008

 फाइकोलॉजी में किसका अध्ययन किया जाता है? Raj. HIrd Gr. Teacher 2013

पेनिसिलिन की खोज किसने की  थी?  [BSSC 2016] SSC. CGL-11.6.2019 SSC CHSL-2011 , SSC CHSL-2011,2015

विटीकल्चर जाना जाता है? राजस्व निरीक्षक (कानूनगो) 2015

वनस्पति संवर्द्धन से सम्बन्धित विज्ञान की शाखा को कहते है? Agri AAO 2010

जीव विज्ञान के जनक के नाम से जाने जाते है ? JVVNL 2011

किस वन के शीर्ष ऊर्ध्वाधर संस्तर या परत में होते हैं? RPSC LDC 2016

 'जीव-विज्ञान' शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम किसने किया? RPSI 2010

उस विज्ञान को जो आनुवांशिकता के नियमों द्वारा मानव जाति की उन्नति का अध्ययन करता है, कहते हैं? ITI 2009

Agrostology किसके अध्ययन से संबंधित है: Bihar Police Constable (22.10.2017)

सब्जी संस्ति के  विज्ञान को कहते हैं?  PGT Bhugol 2016

फूल अध्ययन को कहते हैं--  [ JPSC 2003]