एशिया (Asia )

 एशिया महाद्वीप

  • विश्व का सबसे बड़ा महाद्वीप (जनसंख्या व क्षेत्रफल दोनों ही दृष्टि से)
  • एशिया को यूरोप से अलग करते हैं
    • भूमध्य सागर, काला सागर, कैस्पियन सागर, यूराल पर्वत तथा डारडेनेल्स जलसंधि, बॉसपोरस जलसंधि
  • एशिया को उत्तरी अमेरिका से अलग करते हैं
    • बेरिंग जलसंधि 
  • एशिया को उत्तरी अमेरिका से अलग करते हैं
    • लाल सागर ,स्वेज़ जलडमरूमध्य
  • विश्व की सबसे गहरी के झील बैकाल झील (मीठे पानी) ( गहराई – 1632 मी.) 
  • विश्व का सर्वाधिक ठंडा स्थान बर्खोयांस्क (साइबेरिया, रूस) (-68°C तक रिकॉर्ड) 
  • विश्व का सर्वाधिक वर्षा वाला क्षेत्रमॉसिनराम (भारत) 
  • विश्व की सबसे बड़ी झील कैस्पियन सागर ( 36371,000 वर्ग किमी.)
  • विश्व की सर्वाधिक लवणता वाली झील वान झील (तुर्की
  • एशिया का सबसे गर्म स्थान तिरात ज़वी (इज़राइल) (लगभग 54°C)
  • स्थलखंड पर विश्व का सबसे नीचा स्थानमृत सागर
  • विश्व की सबसे ऊँची चोटी माउंट एवरेस्ट () 
  • विश्व का सबसे लंबा रेलमार्ग ट्रांस साइबेरियन रेल

एशिया को निम्नलिखित प्रमुख भागों में वर्गीकृत किया जा सकता है 

  • 1. उत्तरी निम्न भूमि 
  • 2. मध्यवर्ती पर्वतीय प्रदेश 
  • 3. पठारी क्षेत्र
  • 4. द्वीप समूह

उत्तरी निम्नभूमि Northern lowlanda 

  • ‘साइबेरिया का मैदान’ – यूराल पर्वत व लीना नदी के मध्य
    • इस मैदान में ओब, येनीसी और लीना नदियों का प्रवाह होता है।
  • ओब व येनेसी नदी का निकास – आर्कटिक महासागर के ‘कारा सागर’ में 
  • लीना नदी का निकास – आर्कटिक महासागर के ‘लापटेव सागर’ में 
  • विश्व की सबसे गहरी झील –  ‘बैकाल’ (मीठे पानी की झील )

मध्यवर्ती पर्वतीय प्रदेश 

  • पामीर का पठार इन पर्वतमालाओं का केंद्र बिंदु है। 
    • पामीर ग्रंथि से पूर्व की ओर –  कुनलुन शान, नानशान 
    • पामीर ग्रंथि से पश्चिमी क्षेत्र में –  हिंदुकुश, जाग्रोस और टॉरस पर्वत 
    • पामीर ग्रंथि से दक्षिण-पूर्व की – हिमालय पर्वत व काराकोरम श्रेणी 
    • हिंदुकुश पर्वत उपश्रेणियों 
      • उत्तरी विस्तार – एल्बुर्ज पर्वत 
      • दक्षिणी विस्तार –  जाग्रोस पर्वत 
  • माउंट अराराट (तुर्की) की ग्रंथि पर एल्बुर्ज और जाग्रोस पर्वत आकर मिल जाते हैं। 
  • तुर्की में स्थित अनातोलिया के पठार के उत्तर में पोंटिक पर्वत तथा दक्षिण में टॉरस पर्वत स्थित है। 

पठारी क्षेत्र 

  • चीन में तारीम बेसिन स्थित है।
    • दक्षिण में कुनलुन शान 
    • उत्तर में तिएनशान
    • गोबी मरुस्थल (ठंडा मरुस्थल)
    • जुगारिया बेसिन
    • सिचुवान बेसिन
    • लोयस का पठार 
  • तुर्की (टर्की) में ‘अनातोलिया का पठार’ स्थित हैं।
  • भारत में ‘दक्कन का पठार’ स्थित हैं।
  • मध्य साइबेरिया में ‘याकूत पठार’ स्थित हैं। 
  • विश्व का सबसे ऊँचा पठार  – तिब्बत के पठार

 

महत्त्वपूर्ण द्वीप 

एशिया की प्रमुख जलसंधियाँ 

जलसंधि(Strait)

विशेषताएँ

बेरिंग जलसंधि

Bering Strait

  • अलास्का (अमेरिका) को रूस से अलग करता है। 
  • पूर्वी चूकची सागर एवं बेरिंग सागर को जोड़ता है। 

तत्तर जलसंधि

Tatar Strait

  • रूसी मुख्यभूमि को रूस के सखालिन द्वीप से अलग करता है।
  • जापान सागर को ओख़ोत्स्क सागर से जोड़ता है। 

ला-पैरोज जलसंधि

या सोया जलसंधि

La perouse/Soya Strait

  • जापान के होकैडो द्वीप को रूस के सखालिन द्वीप से अलग करता है।
  • जापान सागर को ओखोत्स्क सागर से जोड़ता है।

सुगारु जलसंधि

Tsugaru Strait

  • होकैडो को होंशू द्वीप से अलग करता है।
  • जापान सागर को प्रशांत महासागर से जोड़ता है।

कोरिया जलसंधि या

सुशिमा जलसंधि

KOREA /Tsushima Strait

ताइवान जलसंधि (फॉरमोसा जलसंधि)

Taiwan / Formosa Strait

लूजोन जलसंधि

Luzon Strait

  • ताइवान को लूजोन द्वीप से अलग करता है।
  • दक्षिणी चीन सागरप्रशांत महासागर को जोड़ता है।

मकस्सार जलसंधि

Makassar

Strait

  • सेलेबस(celebes) द्वीप को बोर्नियो द्वीप से अलग करता है।
  • सेलेबस सागर को जावा सागर से जोड़ता है।

सुंडा जलसंधि

Sunda Strait

  • इंडोनेशिया के जावा को सुमात्रा से अलग करता है।
  • हिंद महासागर को जावा सागर से जोड़ता है। 

मलक्का जलसंधि

 Malacca Strait

  • मलेशिया (मलाया) को सुमात्रा द्वीप से अलग करता है। 
  • अंडमान सागर (हिंद महासागर) को दक्षिण चीन सागर (प्रशांत महासागर) से जोड़ता है। 

जोहोर जलसंधि

Johor Strait

पाक जलसंधि

Palk Strait

  • भारत के पम्बन द्वीप को श्रीलंका से अलग करता है।
  •  मन्नार की खाड़ी को पाक की खाड़ी से जोड़ता है।

हॉर्मुज़ जलसंधि

Hormuz Strait

  • यू.ए.ई.,ओमान को ईरान से अलग करता है।
  • फारस की खाड़ी को ओमान की खाड़ी से जोड़ता है।

बाब-एल-मंडेब  

जलसंधि

Bab El Mandeb Strait

  • यमन को जिबूती से अलग करता है। 
  • लाल सागर को अदन की खाड़ी से जोड़ता है।

डारडेनेल्स जलसंधि

Dardanelles strait

Strait of Gallipoli

  • यह मारमरा सागर को एजियन सागर से जोड़ता है
  • यह एशियाई तुर्की को यूरोपीय तुर्की से अलग करता है
  • एशिया को यूरोप से अलग करता है

बॉसपोरस जलसंधि

Bosporus strait

  • यह काला सागर को मारमरा सागर से जोड़ता है
  • यह एशियाई तुर्की को यूरोपीय तुर्की से अलग करता है
  • एशिया को यूरोप से अलग करता है

एशिया की प्रमुख झीलें

झील

सम्बंधित तथ्य 

कैस्पियन झील

  • अज़रबैजान,ईरान ,कज़ाख्स्तान,तुर्कमेनिस्तान,रूस
  • एशिया-यूरोप महाद्वीप की विभाजक होने के साथ विश्व की सबसे बड़ी झील है। 
  • इसमें वोल्गा और यूराल जैसी प्रमुख नदियों का मुहाना है।

बाल्खश झील

  • कजाख्स्तान
  • यह खारे पानी की झील है

पेगॉन्ग झील

  • भारत, चीन
  • रामसर कन्वेंशन के तहत इसे मान्यता प्राप्त है। 
  • भारत व चीन के मध्य वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) यहीं से गुज़रती है। 

टोनले सप झील

  • कंबोडिया
  • यह दक्षिण-पूर्व एशिया की एक महत्त्वपूर्ण झील है

वान  झील

  • तुर्की
  • यह विश्व की सर्वाधिक खारे पानी की झील है।

बैकाल झील

  • विश्व की सबसे गहरी झील 
  • यहीं से लीना अंगारा नदियों का उद्गम होता है।

अरल झील

  • कजाख्स्तान,उज्बेकिस्तान 
  • आमू दरिया और सीर दरिया नदी इसी झील में गिरती है।

लोपनूर

  • चीन
  • चीन के तारीम बेसिन में स्थित है।
  • यह खारे पानी की झील है।

टोबा झील

  • इंडोनेशिया(सुमात्रा )
  • ‘क्रेटर झील’ का उदाहरण है। 
  •  मीठे पानी की झील है।

एशिया के मरुस्थल व मैदान

मरुस्थल व मैदान  विशेषता
रुब-अल-खाली मरुस्थल

(दक्षिण-पूर्व अरब प्रायद्वीप)

  • यह विश्व का सबसे बड़ा बालू निर्मित मरुभूमि क्षेत्र है। 
  • यह सऊदी अरब में स्थित है।
अन-नफूद मरुस्थल
दस्त-ए-कबीर मरुस्थल
  • ईरान में स्थित है।
  • इसे ‘ग्रेट साल्ट डेज़र्ट‘ भी कहते हैं।
दस्त-ए-लुट मरुस्थल
  • यह पूर्वी ईरान में स्थित मरुस्थल है।
गोबी मरुस्थल
कुबुकी मरुस्थल
तकला मकान मरुस्थल
  • यह चीन के उत्तर-पश्चिम क्षेत्र ‘सीक्यांग’ में स्थित है।
थार मरुस्थल
  • भारत 
मंचूरिया का मैदान 
  • अमूर नदी एवं उसकी सहायक नदी द्वारा निर्मित 
  • यह मैदान चीन में स्थित है।
तुरान का मैदान
  • आमू दरियासीर दरिया नदियों द्वारा निर्मित मैदान है। 
  • विस्तार-  तुर्कमेनिस्तान, उज्बेकिस्तान एवं कज़ाख्स्तान में है।

 

एशिया की जलवायु एवं वनस्पति 

  • विश्व का सर्वाधिक वर्षा वाला क्षेत्रभारत का ‘मॉसिनराम’ 
    • यहाँ वर्षा दक्षिण-पश्चिम मानसूनी पवनों के द्वारा होती है। 
  • एशिया के उत्तरी क्षेत्र को पृथ्वी का शीत ध्रुव’ कहा जाता है। 
    • उत्तरी क्षेत्र में विश्व का सबसे ठंडा क्षेत्र बर्खोयांस्क’ स्थित है। 
  • एशिया के उत्तरी भाग में ‘टुण्ड्रा वनस्पति’ के रूप में काई व लाइकेन पाई जाती है। 
  • टुण्ड्रा वनस्पति के दक्षिण में शंकुधारी वन पाया जाता है, जिसे ‘टैगा वनस्पति’ कहते हैं। 
    • टैगा वनस्पति – चीड़, फर, स्यूस वृक्ष 
  • टैगा के दक्षिण मेंशीतोष्ण घास के मैदान को ‘स्टेपीज’ कहते हैं। 
  • मानसूनी वनों में सागौन (Teak), साल, चंदन इत्यादि के वृक्ष प्रमुख  रूप से पाये जाते हैं। 

प्राकृतिक संसाधन एवं कृषि 

एशिया के महत्त्वपूर्ण देश एवं उनकी विशेषताएँ

पाकिस्तान

  • सिंधु नदी पाकिस्तान की प्रमुख नदी है । 
  • पाकिस्तान को ‘नहरों का देश’ कहते हैं। 
  • किरथर, हिंदुकुश एवं सुलेमान यहाँ की प्रमुख पर्वत श्रेणियाँ हैं। 
  • हिंदुकुश पर्वत की चोटी‘तिरिचमीर’ (7708 मी.) पाकिस्तान की सर्वोच्च चोटी है। 
    • खैबर दर्रा –  ‘हिंदुकुश’ में, में स्थित है।
    • बोलन दर्रा– ‘किरथर’ श्रेणी में स्थित है। 
  • पाकिस्तान के उत्तरी-पश्चिमी क्षेत्र में ‘स्वात घाटी’ स्थित है, जिसे पाकिस्तान का स्वर्ग’ कहा जाता है। 
  • पाकिस्तान में ‘साल्टरेंज’ है जो सेंधा नमक, जिप्सम व चूना पत्थर के लिये महत्त्वपूर्ण है। 
  • पाकिस्तान के सबसे गर्म स्थान –  ‘जैकोबाबाद’ 
  • पाकिस्तान के मरुस्थल– चोलिस्तान मरुस्थल (थार का भाग )
  • यहाँ ‘सुई’ ‘मियाल’ क्षेत्र प्राकृतिक गैस के लिये प्रसिद्ध है।  
  •  ‘क्वेटा’ कोयले के लिये प्रसिद्ध है। 
  • पाकिस्तान की राजधानी – ‘इस्लामाबाद’ 
  • सबसे बड़ा नगर –   ‘कराची’
  • पाकिस्तान की राष्ट्रीय भाषा – उर्दू

नेपाल

  • नेपाल, चीन व भारत के मध्य ‘बफर स्टेट’ है। 
  • इसकी सीमा भारत के उत्तराखण्ड, उत्तर प्रदेश, बिहार, सिक्किमपश्चिम बंगाल राज्यों से लगी हुई है। 
  • नेपाल की महत्त्वपूर्ण चोटियाँ
    • माउंट एवरेस्ट
    • धौलागिरी 
    • कंचनजंगा (नेपालसिक्किम के सीमावर्ती क्षेत्र में) 
    • मकालू
    • अन्नपूर्णा 
    • गौरीशंकर 
  • मध्य हिमालय (धौलाधर) को नेपाल में ‘महाभारत श्रेणी‘ कहते हैं। 
  • मुख्य जनजातियाँनेपाली, नीवार, गोरखा, शेरपा, भूटिया
  • राष्ट्रीय भाषा – ‘नेपाली’ 
  • नेपाल की राजधानी –  ‘काठमांडू’ 
  • नेपाल का प्रमुख नगर – विराटनगर, थिमी’ (Thimi)
  • भारत सरकार की मदद से नेपाल में त्रिशूली, कोसी, पंचेश्वर, सप्तकोशी नाऊमूरे जैसी परियोजनाएँ विकसित की गई हैं। 
  • नेपाल की पर्यटक स्थलकाठमांडू घाटी, लुंबिनी, चितवन नेशनल पार्क सागरमाथा नेशनल पार्क , पशुपति नाथ मंदिर 

भूटान

  • भूटान की सबसे ऊँची पर्वत चोटी – ‘गांकर पुनसुम’ (कुलाकांगड़ी) 
  • भूटान को ‘लैंड ऑफ थंडरवोल्ट’ कहते हैं। 
  • भूटान की राजधानी‘थिंफू’ है। 
  • प्रमुख नदियाँ – संकोश, वॉग्चू व मानस
  • भारत की मदद से चूखा, संकोश, ताता तथा मांगदेचु जलविद्युत परियोजना का विकास किया गया है। 
  • भोटिया नृजाति समूह की प्रधानता है। 

म्याँमार

  • म्याँमार, ‘स्वर्ण पैगोडा का देश’ कहते हैं। 
  • ‘अराकानयोमा’ यहाँ की प्रमुख पर्वत श्रेणी है।
  • म्यांमार की सर्वोच्च चोटी –  ‘हकाकाबोराजी’ (5,881 मी.) 
  • म्यांमार में ‘शान पठार’‘कामिन्नी पठार’ प्रमुख है। 
  • प्रमुख नदि–  इरावदी, सालवीन और सितांग है। 
  • सालवीन और इरावदी नदी दोआब को पूर्व का ‘चावल का कटोरा’ कहा जाता है, 
  • सालवीन नदी के पूर्व में ‘सुनहरी त्रिभुज’ (Golden Triangle) स्थित है जो अफीम की खेती के लिये प्रसिद्ध है। 
  • इरावदी नदीम्यांमार की जीवन रेखा कहलाती है। 
  • इरावदी नदी के तट पर बसा नगरमांडले
  • म्यांमार सागौन की लकड़ी के लिये पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। 
  • म्यांमार की मर्तबान की खाड़ीमोतियों के लिये जानी जाती है। 
  • चिंदविन और मोन्यवा के संगम पर कोयले का भंडार पाया जाता है। 
  • प्रमुख पत्तन – यांगून  
  • पर्यटक स्थल -‘प्यू शहर’,’इनले झील’ 
  • म्यांमार रखाईन प्रांत में रोहिंग्या मुस्लिम अल्पसंख्यक रहते हैं।

बांग्लादेश

  • विश्व के सबसे बड़े डेल्टा – (गंगा-ब्रह्मपुत्र डेल्टा) पर स्थित है।
  •  बांग्लादेश को ‘नदियों का देश’ कहते हैं
  • बांग्लादेश की प्रमुख नदियों – गंगा-ब्रह्मपुत्र, मेघना,सुरमा 
    • ब्रह्मपुत्र को बांग्लादेश में ‘जमुना’ कहते हैं। 
    • जब जमुना गंगा से मिलती है तब इसका नाम ‘पद्मा’ हो जाता है। 
    • इसी पद्मा नदी से जब मेघना मिलती है तो नाम बदलकर ‘मेघना’ हो जाता है। 
  • बांग्लादेश का ‘कॉक्स बाज़ार’विश्व का सबसे बड़ा बलुई पुलिन (Sandy beach) है।