झारखण्ड में प्रमुख व्यक्तियों का निधन (people passed away in Jharkhand)

  • Post author:
  • Post category:Blog
  • Reading time:15 mins read

साधु चरण महतो

  • सरायकेला खरसावाँ जिला के ईचागढ़ के पूर्व विधायक
  • निधन – 23 नवम्बर, 2021 को। 

 

2. कमल किशोर भगत

  • आजसू पार्टी के पूर्व विधायक(लोहरदगा)
  • निधन–  17 दिसम्बर, 2021 को

3. डॉ. गिरीधारी राम गौंझू

  • डॉ. गिरिधारी राम गौंझू हिन्दी और नागपुरी भाषा के जानकार थे तथा राँची विश्वविद्यालय के जनजातीय भाषा विभाग में प्रधनाध्यापक रह चुके थे। 
  • डॉ गोंझू प्रभान खलर समाचार पत्र द्वारा प्रकाशिन माय-मांटी के नियमित लेखक भी रहे थे। 
  • 15 अप्रैल, 2021 को इनका निधन हो गया। 

 

4. सनातन मांझी

  • पूर्वी सिंहभूम के पोटका से पूर्व विधायक
  • वे पोतका विधानसभा क्षेत्र से दो बार विधायक रहें। 

 

5. दुति पाहन

  • खिजरी विधान सभा के पूर्व विधायक
  •  29 अप्रैल, 2021 को निधन हो गया।
  •  वे खिजरी विधानसभा से साल 1995 और 2000 में भाजपा के लगातार दो बार विधायक रहे।

 

6. माइकल किंडो

  • 31 दिसंबर 2020 को हॉकी खिलाड़ी माइकल किंडो का निधन हो गया। 
  • वे सिमडेगा के वैद्यमा गाँव के रहने वाले थे।
  • वे सेना में नौकरी करते हुए भारतीय हॉकी टीम तक पहुँचे थे। 
  • वे 1972 हॉकी ओलंपिक में कांस्य पदक विजेता टीम के सदस्य थे। 
  • वे अपने समय में भारतीय हॉकी टीम के आयरन गेट के नाम से जाने जाते थे।
  • 1975 विश्वकप हॉकी में स्वर्ण पदक विजेता टीम के भी सदस्य रहे थे। 
  • उनकी खेल प्रतिभा को देखते हुए उन्हें अर्जुन अवार्ड से सम्मानित भी किया गया था। 

 

7. एम.रामा जोड्स

  • झारखंड के दूसरे राज्यपाल के रूप में कार्य कर चुके एम.रामा . जोइस का 16 फरवरी 2021 को निधन हो गया। 
  • वे झारखंड में 15 जुलाई 2002 से 11 जून 2003 तक राज्यपाल रहे। 
  • इसके अलावा वे बिहार के राज्यपाल तथा पंजाब हरियाणा के मुख्य न्यायाधीश भी रह चुके थे। 
  • वे कर्नाटक से राज्यसभा सांसद भी रह चुके थे। 
  • झारखंड में जब राज्यपाल थे तब उन्होंने राजभवन परिसर में बुद्धा गार्डन तथानक्षत्र का निर्माण करवाया था। 

 

डी.एन. उपाध्याय (धुव नारायण उपाध्याय)

  • झारखंड के लोकायुक्त जस्टिस डी.एन. उपाध्याय का निधन हो गया। 
  • जस्टिस उपाध्याय का जन्म जमशेदपुर में 10 अगस्त, 1954 को हुआ था। उन्होंने
  •  27 अप्रैल, 2011 को झारखंड हाइकोर्ट में न्यायाधीश के रूप में शपथ ली। 
  • 9 फरवरी, 2017 को वे लोकायुक्त नियुक्त किये गए तथा 13 फरवरी,2017 को उन्होंने पद ग्रहण किया था। 

 

फादर स्टेन स्वामी

  • सामाजिक कार्यकर्ता फादर स्टेन स्वामी का निधन 5 जुलाई, 2021 को हो गया।
  •  वे सन् 1965 में झारखंड आए । 
  • उन्हें भीमा कोरेगाँव मामले में 08 अक्टूबर, 2020 को N.I.A. द्वारा गिरफ्तार किया गया था। 

 

टी.पी. सिन्हा

  • झारखंड के दूसरे डीजीपी रहे टी.पी. सिन्हा का निधन 10 मई,  2021 को हो गया 
  • झारखंड बनने के बाद 14 दिसंबर, 2000 को बतौर डीजीपी उन्होंने योगदान दिया। ।

 

लक्ष्मण गिलुवा

  • झारखंड के सिंहभूम के पूर्व सांसद लक्ष्मण गिलुवा का निधन 29 अप्रैल, 2021 को हो गया। 
  • वे 13वीं लोकसभा के सदस्य थे। हालांकि वे पिछला चनाव गीता कोडा से हार गए थे। 

 

ललित प्रसाद

  • संयुक्त बिहार बॉलीबॉल के पितामह ललित प्रसाद सिंह का 28 अप्रैल, 2021 को निधन हो गया। वे उच्च कोटि के बॉलीबॉल खिलाड़ी थे। 

कनक

  • जेपी आंदोलन से प्रभावित महिला
  • कनक महिला पत्रिका संभवा की संपादक मंडल में भी रही।

 

कालीदास मुर्मू

  • संताल परगना के महेशपुर से दो बार विधायक(1972 व 1990) व प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व उपाध्यक्ष कालिदास मुर्मू का निधन 1 मई, 2021 को हो गया। 

 

निर्मल मिंज

  • थियोलॉजिकल कॉलेज के प्राचार्य व गोस्सनर कॉलेज के प्राचार्य रहे, 
  • NWUGEL चर्च के प्रथम विशप रहे। 
  • निर्मल मिंज का निधन 5 मई, 2021 को हो गया । 
  • झारखंड के शिक्षाविद् 

 

हारू रजवार

  • चंदनक्यारी से 3 बार विधायक(1980,2000, 2005 )रह चुके हारू रजवार का निधन 19 मई, 2021 को हो गया।

 

विष्णु प्रसाद भैया

  • जामताड़ा के पूर्व विधायक विष्णु प्रसाद भैया का 3 अप्रैल, 2021 को निधन हो गया । 

 

डॉ. भुवनेश्वर अनुज

  • एचइसी कर्मी, पत्रकार, शिक्षाविद् और नागपुरी लेखक डॉ. भुवनेश्वर अनुज का निधन 2 अप्रैल, 2021 को हो गया। 

 

बंदी उरांव

  • एकीकृत बिहार के पूर्व मंत्री व सिसई से चार बार विधाय रहे बंदी उरांव का 90 वर्ष की आयु में निधन हो गया । 
  • वे सन् 1980, 1985, 1991 और 1995 में विधायक बने।
  • वे चंद्रशेखर सिंह की सरकार में योजना मंत्री भी रहे। 
  • वे राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के उपाध्यक्ष के साथ-साथ पेसा कानून तैयार करने वाली भूरिया कमेटी के सदस्य भी रह चुके थे। 
  • उनका चयन BPSC के माध्यम से D.S.P. पद पर हुआ तथा सन् 1972 में उन्हें I.P.S. में प्रोन्नति मिली। 
  • सन् 1980 में गिरिडीह के S.P. बने। 
  • कार्तिक उरांव से प्रेरणा लेकर वे V.R.S. ले लिए और राजनीति में सक्रिय हो गए।