गति का तीसरा नियम
« Back to Glossary Index
  • गति का तृतीय नियम : क्रिया-प्रतिक्रिया का नियम  (Third Law of Motion : Action Reaction Law)  
  • गति के तृतीय नियमानुसार- एक वस्तु क्रिया रूप में दूसरी वस्तु पर जितना बल लगाती है, दूसरी वस्तु भी उतना ही बल विपरीत दिशा में प्रतिक्रिया रूप में लगाती है 
  • अर्थात प्रत्येक क्रिया की उसके बराबर तथा विपरीत दिशा में प्रतिक्रिया होती है। 
  • every action, there is an equal and opposite reaction
  • उदाहरण के लियेः 
  • बंदूक से जब गोली छोड़ी जाती है तो हमें पीछे की ओर झटका लगता है। इसका कारण है जितने बल से गोली आगे जाती है। उतना ही बल वह प्रतिक्रिया स्वरूप बंदूक पर लगाती है।
  • रॉकेट की गति उससे निकलने वाले तीव्र गैसीय निकास (Exhaust) की प्रतिक्रिया होती है।
  • नाव को जल में चलाने के लिये चप्पू से जल को पीछे की ओर धकेलना। 
  • हम अपने भार का जो अनुभव करते हैं वह भी प्रतिक्रिया बल का उदाहरण है।