Biography of Dr. A. K. Jha(Dr. Ajit Kumar Jha) डॉ अजीत कुमार झा की जीवनी

  • Post author:
  • Post category:Blog
  • Reading time:3 mins read

डॉ ए.के झा- डॉ अजीत कुमार झा

 “©www.sarkarilibrary.in”

  • (1980 – 2000 – झा युग)
  • उपनाम
    • ‘झारपात’
    • वेदर वाइज
    • मउसम विगियानी
    • जादूगर शिक्षक
  • जन्म  “©www.sarkarilibrary.in”
    • 20 जून ,1939 ,(अन्य – 2/2/1942 )
    • चंडीपुर गांव, पेटरवार जिला, बोकारो
  • निधन- 29 सितम्बर 2013
  • पिता का नाम– लक्ष्मी नारायण झा(अन्य श्रोतो में – लक्ष्मीनाथ झा )
  • माता का नाम– कुसुम बाला
  • छोटे भाई– अमर कुमार झा
    • (अजीत कुमार झा माता पिता के दूसरे न. के संतान थे )
  • पत्नी– भानुमति झा – 5th Pass  “©www.sarkarilibrary.in”
    • ( विवाह – 22 मार्च 1963 )
  • पुत्र /पुत्री
    • दो (1 पुत्र + 1 पुत्री)
  • शिक्षा
    • मेट्रिक (1ST Div ) – पेटरवार उच्च विद्यालय, बोकारो
    • इंटर (1ST Div ) – संत कोलंबस ,हज़ारीबाग़
    • स्नातक (2nd Div ) – संत कोलंबस ,हज़ारीबाग़
    • रांची विश्वविद्यालय
  • कार्य
    • 1964 से डुमरी टांगरडीह उच्च विद्यालय ,गुमला में सहायक विज्ञान शिक्षक के पद पर नियुक्त
  • कृति  “©www.sarkarilibrary.in”
    • खोरठा-काठे पइदेक खंडी (कविता संग्रह- 1984 )
      • हिंदी साहित्यकार आचार्य जानकी वल्लभ शास्त्री को समर्पित किया है जिन्हें वे अपने गुरु मानते थे।
    • खोरठा-काठे गइदेक खंडी (निबंध संकलन)
    • खोरठा सहित सदानिक व्याकरण
    • समाजेक सरजुइटेक निसन(प्रबंध काव्य)-7 खंड
    • कविता पुराण (छउवा काइब),
    • खोरठा सहित सदानिक बेयाकरन
    • खोरठा भाषा बिगियान  “©www.sarkarilibrary.in”
    • मेकामेकी ना मेटमाट (नाटक)
    • सइर सरगठ(जनवादी उपन्यास)
      • प्रकाशक – झारखंड, झरोखा
    • खोरठा लोककथा ( 2014 में प्रकाशित – झारखण्ड झरोखा )
    • पुटी आर पालू (शब्द चित्र )
    • बड़का बुजरुक बिरसा (बिरसा मुंडा की जीवनी )
    • चाइल चीन्हा (कविता )
    • खोरठा भासा रस छंद और अलंकार
    • लुआठी पत्रिका में कइसन प्रेम कविता छपा और शीर्षक बना।
      • लुआठी पत्रिका गिरधारी गोस्वामी आकाश खूंटी के द्वारा 1999 में शुरू किया गया था
    • झारखंडी भाषा संस्कृति के विभिन्न पहलुओं पर विचार
    • खोरठा एगो सकत सुतंतर भाषा (आलेख) – दु डाहर परास फूल
  • संपादन
    • खोरठा लोक गीत संग्रह – एक टोकि फूल का संपादन
    • तितकी पत्रिका का 1983 में संपादक बने – खोरठा ढाकी क्षेत्र कमिटी ,कोठार रामगढ से प्रकाशित
      • तितकी पत्रिका का प्रथम संपादक – विश्वनाथ दसौंधी राज
  • संगिया संपादन
    • खोरठा गईंद पईद संग्रह
    • खोरठा लोककथा
    • दू दायर जिरहुल फूल
  • अन्य  “©www.sarkarilibrary.in”
    • डॉक्टरेट की उपाधि
    • मौसम विज्ञान के जानकार मौसम के सर्वोत्तम भविष्यवाणी मौसम विज्ञान विधवाला देश का अकेला सम्मान
    • मौसम विज्ञान के सिद्धांत : धारा गगन सिद्धांत
    • शताब्दी रत्ना सम्मान
    • राष्ट्रीय भाषा रत्ना सम्मान
    • श्रीनिवास पानुरी सम्मान
    • सपूत सम्मान
    • ABI(USA) का मैन ऑफ द ईयर 1999
    • रिसर्च बोर्ड एडवाइजर (2000)
    • साहित्य में मैथिलीशरण गुप्त राष्ट्रीय सम्मान प्राप्त
    • कृषि मंत्रालय से मौसम विद सम्मान
    • राँची विश्वविद्यालय द्वारा भाषा-संस्कृति में उच्च योगदानार्थ नवरंग सम्मान (1989)
    • यू.जी.सी. एवं विश्वविद्यालय का संदर्भ व्यक्ति
    • खगोल विद्या में अपने विशेष योगदान के लिए एसियन एस्ट्रो कन्फरेंस द्वारा महादेशोत्तम सम्मान
    • पूर्वांचल ज्योतिष सम्मेलन द्वारा ज्योतिष विधु सम्मान -प्रमाण प्राप्त
    • दस राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय स्तर के विज्ञानी स्मरण
    • विज्ञानी संस्थाओं की आजीवन सदस्यता प्राप्त
    • धरा-गगन सिद्धांत का प्रणयन: अपने 48 (अड़तालीस) वर्षों के प्रकृति अध्ययन से मौसम की सर्वोत्तम भविष्यवाणी और आकाशीय रहस्यों की खोज का अभूतपूर्व तरीका निकाला।
    • मौसम विज्ञान विद्यवाला सम्मान देश का अकेला सम्मान।
    • खोरठा साहित्य संस्कृति परिषद का निदेशक, प्रधान संपादक
    • जनजातीय कल्याण शोध संस्थान, राँची द्वारा लोकसाहित्य संकलन का प्रधान संपादकत्व प्रदान ।

 “©www.sarkarilibrary.in”

  • JSSC CGL में शामिल ए.के. झा. की रचना
    • आइझ एकाइ खोरठा कबिता (एक पथिया डोंगल महुआ)
    • तबे हामें कबि नाय कबिता (एक पथिया डोंगल महुआ)
    • गोहाइल परब लोककथा
    • दू बिहाक दुरति लोककथा
    • लुइरगर बेटी छउआ लोककथा
  • नोट : जनजातीय एवं क्षेत्रीय भाषा विभाग, स्नातकोत्तर 1980-81 (12 मई 1980 ) में प्रारंभ हुआ था

Previous Year Questions Related to ए. के. झा

 “©www.sarkarilibrary.in”

  • Q.डाह नाटक के भूमिका लिखल हथ ? ए. के. झा
  • Q.खोरठा गइद-पइद संगरह के प्रधान संपादक हथ ? डॉ. ए.के. झा
  • खोरठा गइद-पइद संगरह परकसन – 1989
  • Q.खोरठा लोककथा किताब के प्रधान संपादक के हय ? डॉ. ए. के झा
  • Q.ए. के. झा जी जनम भेल रहे ? 20 जून, 1939
  • Q. “खोरठाक काठे पइदेक खड़ी’ केकर रचना हकइ? डॉ. ए.के.झा
  • Q. डॉ. ए. के. झा. कर रचना लागय? कविता पुरान
  • Q. खोरठाक कोन विदवान ‘मउसम विगियानी’ नामे जानल जा हथ? डॉ. ए. के. झा
  • Q. मेकामेकी ना मेटमाट कर रचनाकार लागय? डॉ. ए. के. झा.
  • Q.खोरठा सहित सदानिक बेयाकरन कर रचनाकार लागय? डॉ. ए. के. झा.
  • Q. सइर सगरठ कर रचनाकार लागय? – डॉ.ए.के. झा  “©www.sarkarilibrary.in”
  • Q. खोरठा भासा रस छंद और अलंकार कर रचनाकार लागय? – डॉ.ए.के. झा
  • Q. ‘मउसम विगियानी’ कर रूपे खोरठांक कोन विदवान जानल जा हय ? डॉ. ए.के. झा
  • Q. कोन साहितकार झारपात’ कर उपनाम से परसिद हथ ? डॉ. ए.के. झा
  • Q. खोरठा उपनियास ‘सइर संगरठ’ के रचनाकार हय ? डॉ. ए. के झा
  • Q. डॉ. ए. के. झा. कर पुरा नाम की लागय? अजित कुमार झा
  • Q. ‘मौसम वैज्ञानिक’ के नामे जानल जा हेलाही ? डॉ० ए.के. झा।
  • Q. डॉ. ए. के. झा. कर बापेक नाम की लागय? लक्ष्मी नारायण झा
  • Q.डॉ. ए. के. झा. कर लिखल गइद भाग बतावा ? एगो चिठ्ठी
  • Q.स्वागत कविताक कर रचनाकार लागय? – डॉ.ए.के. झा
  • Q.खोरठा भाषा बिगियान के रचनाकार हय ? डॉ. ए. के झा
  • Q.बँवा हाथ कविता के कबि रहथ ? डॉ. ए. के झा